भारत (India) में गर्भपात (abortion) कब और कैसे कर सकते हैं तरीके नियम क़ानून (rules)

0

MTP act and Abortion Rules in India

आप सबने सुना और पढ़ा ही होगा की गर्भपात या एबॉर्शन भारत में एक दंडनीय अपराध माना जाता है लें भारत में ऐसा क़ानून है जिसके तहत आप गर्भपात करवा सकती हैं लेकिन कुछ विशेष परिस्थितों में और एक निश्चित समय सीमा तक| आज हम यहाँ जानेंगे की इंडिया में गर्भपात करवाने के लिए MTP एक्ट क्या है और आप इस नियम के अनुसार कब तक और कैसे एबॉर्शन करवा सकती हैं और गर्भपात के कौनसे तरीके आप इस्तेमाल कर सकती हैं|

bharat me garbhpat ke niyam

असुराखित गर्भपात के तरीको के कारण माताओं की बढती मृत्यु दर और जनसँख्या को काबू में रखने के लिए सरकार में MTP कानून लागू किया था जिसका पूरा नाम Medical Termination of Pregnancy Act है| आखिर यह एक्ट है क्या और आप यदि अपना एबॉर्शन करवाना चाहती हैं तो आपके अधिकार क्या हैं| क्या भारत में गर्भपात करना गैर क़ानूनी जुर्म है जानिये abortion rules in India in Hindi के द्वारा सरल शब्दों में|

भारत में गर्भपात के नियम, कानून को समझने के लिए नीचे दी गयी जानकारी पढ़ें|

भारत में गर्भपात करवाना लीगल है या नहीं | क्या इंडिया में एबॉर्शन कानूनी रूप से जायज है या नहीं?

loading...

भारत में मेडिकल की सहायता से गर्भपात करवाना कोई जुर्म नहीं हैं लेकिन एबॉर्शन करवाने के कुछ नियम और शर्तें या कानून हैं जिनके तहत ही ऐसा करना कानूनी माना जाता है यानी आप इंडिया में एबॉर्शन करवा सकते हैं लेकिन विशेष परिस्थितिओ में| 2007 में  Ministry of Health and Family Welfare ने एक सर्वे में पाया की यह बात केवल जनसँख्या के छोटे से हिस्से को मालूम थी की भारत में कानूनी तौर पर गर्भपात करवा सकते हैं और इसके कई मेडिकल तरीके भी उपलब्ध हैं और उन्हें गर्भपात करवाने का अधिकार है|

India में गर्भपात करवा सकते हैं लेकिन किन उसकी शर्तें क्या हैं | कब भारत में एबॉर्शन जायज माना जाता है

जैसा की आप जान चुके हैं की भारत में गर्भपात करवाया जा सकता है लेकिन यह आपकी मर्जी या आपके कहने से नहीं होगा| इसमें आपकी डॉक्टर की राय और कानूनी सहमती जरुरी होती है| भारत में गर्भपात कब तक करवा सकते हैं या कर सकते हैं और इसकी समय सीमा की बात करें तो कानूनी रूप से गर्भपात प्रेगनेंसी के पहले 12 हफ़्तों तक एक डॉक्टर की सहमति से और 12 से 20 हफ़्तों तक २ डॉक्टर्स की सहमति मिलने के बाद ही किया जाता है|

इसके अतिरिक्त कुछ conditions होती हैं जिसमें डॉक्टर आपको खुद गर्भपात जल्दी करवाने की सलाह दे सकती है जैसे

प्रेगनेंसी के कारण औरत को जानलेवा खतरा हो

प्रेगनेंसी से स्त्री के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को कोई खतरा हो

शादीशुदा महिला द्वारा किये जाने वाले गर्भनिरोधक उपाय यदि फ़ैल हो जाएँ|

होने वाले बाचे को अपंगता या कोई जन्मजात त्रुटी होने की सम्भावना हो|

इसके अलावा यदि आपको कोई और परेशानी, मजबूरी या कोई कष्ट है तो अपने डॉक्टर से आप परामर्श, सलाह और इलाज ले सकती हैं|

नोट:- आपकी state यानि राज्य के अनुसार गर्भपात के नियम और कानून अलग हो सकते हैं| इसके बारे में अधिक जानकारी आप डॉक्टर या state गवर्मेंट के माध्यम से पता कर सकते हैं|

गर्भनिरोधक गोली fail हो गयी है तो क्या हम गोली के तरीके से घर में एबॉर्शन कर सकते हैं?

ऐसे कई प्रश्न हमें रोजाना मिल रहे हैं की यदि unwanted 72 फ़ैल हो जाए या दूसरी गर्भ को रोकने वाली दवा काम न करे तो क्या घर में गोली द्वारा या गर्भपात के घरेलु तरीका अपनाकर क्या गर्भ गिरा सकते हैं?

यहाँ ध्यान दीजिये की गर्भपात के घरेलु तरीके के नुकसान हो सकते हैं और यदि आप गर्भ गिराने की गोली का इस्तेमाल करते हैं तो उसके जानलेवा परिणाम भी हो सकते हैं हैसे ब्लीडिंग का न रुकना आदि|

इसलिए बिना डॉक्टर की सलाह और सहमति के आपको भूलकर भी गर्भपात के इन तरीकों का इस्तेमाल नहीं करना|बेहतर यही होगा की अपनी डॉक्टर से मिलिए और पूरी बात करिए और तभी डॉक्टर आपको दवाई लेने की सलाह दे सकती है लेकिन इस दौरान आपको डॉक्टर की देख रेख में ही रहना होगा ताकि कोई परेशानी होने पर डॉक्टर आपको सही समय पर सही इलाज दे सके|

डॉक्टर द्वारा अपनाये जाने वाले गर्भात के तरीके

स्त्री रोग से सम्बंधित डॉक्टर गर्भपात के दो तरीके अपना सकती है| पहला मेडिकल एबॉर्शन द्वारा और दूसरा सर्जरी द्वारा|

Medical abortion में गर्भपात गोली द्वारा डॉक्टर की देख रेख में किया जाता है जिसमें २ गोलियां दी जाती हैं| इस प्रकार का गर्भपात प्रेगनेंसी शुरू होने के 10 weeks से पहले किया जाता है| इस प्रकार का एबॉर्शन सबसे सुरक्षित माना जाता है जिसमें सर्जरी या ऑपरेशन नहीं किया जाता बस डॉक्टर आपको २ गोलिया Mifepristone और Misoprostol लेने की सलाह देता है और सेवन की विधि भी बताता है| चूँकि गर्भपात का यह तरीका सबसे सरल होता है इसलिए अधिकतर महिलाएं इसी को अपनाती हैं| यदि आपको भी गर्भ से मुक्ति पानी है तो अपनी डॉक्टर से मिलें क्योंकि अधिक देरी होने पर यह तरीका डॉक्टर इस्तेमाल नहीं कर सकती|

आपके पास एबॉर्शन करवाने का दूसरा आप्शन भी होता है और वो है सर्जरी या ऑपरेशन द्वारा गर्भपात करवाना और यह अक्सर प्रेगनेंसी होने के 7 हफ़्तों बाद किया जाता है| इसमें डॉक्टर इलेक्ट्रॉनिक उपकरण या vaccum का इस्तेमाल करके गर्भपात करवाती है|

वयस्क स्त्री को किसी से अनुमति लेने की जरुरत नहीं | क्या गर्भ गिराने के लिए हमें किसी से परमिशन लेनी होगी

यदि आप वयस्क स्त्री हैं तब आप अपनी मर्जी से गर्भपात करवा सकती हैं इसमें आपको अपने पति या दूसरों की अनुमति लेने की जरुरत नहीं होती| कानून आपके औरत होने और वयस्क होने का सम्मान करता है और समझता भी है|

क्या कुंवारी लड़की गर्भपात करवा सकती है?

यदि लड़की वयस्क है और कुंवारी या अकेली है तो इसके लिए भी MTP एक्ट में गर्भपात करवाने का कानून है| यदि आप सिंगल हैं और आपको गर्भपात का सुरक्षित तरीका अपनाना है तो आप डॉक्टर की सलाह से ही ऐसा कर सकती हैं| डॉक्टर आपको इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी देगी और उसके बाद आपकी जांच करके ही आपका गर्भपात करेगी|

आपने आज भारत में गर्भपात करवाने की समय सीमा, उम्र, नियम, कानून आदि के साथ दूसरी जरुरी बातें जानी हैं| यदि आपकी शादी नहीं हुई तो घरलू गर्भपात करवाने के स्थान पर आपको समझदारी से काम लेना चाहिए और बिना डॉक्टर की सलाह और सहमति से स्वम एबॉर्शन करने का स्टेप नहीं उठाना चाहिए| अधिक जानकारी के लिए आप हमरी डॉक्टर से अपने सवाल पूछ सकते हैं|

लोगों की इतनी help की लेकिन youtube चैनल subscribe किसी ने नहीं किया अभी तक

 

loading...

LEAVE A REPLY