Palash ke Phool Benefits Side effects in Hindi – पलाश की जड़, गोंद, बीज, पत्तों और छाल के फायदे और नुकसान

0

Palash Benefits Side effects

पलाश को इंग्लिश में कई नामों से जाना जाता है जैसे flame of the forest, bastard teak, parrot tree, Bengal kino आदि और इसी प्रकार पलाश के हिंदी में भी कई नाम हैं जैसे टेसू, dhak, कमरकस आदि| पलाश का पेड़ भारत में आसानी से मिल जाता है| आयुर्वेद में पलाश के लगभग हर भाग जैसे पलाश के फूल, पत्तियां, गोंद, जड़, बीज, फल और छाल का प्रयोग दवाइयां बनाने के लिए किया जाता है| पलाश का पेड़ अपने औषधीय गुणों के लिए जाना जाता है और इसके विभिन्न विभिन्न भागों में विभिन्न विभिन्न औषधीय गुण पाए जाते हैं इसीलिए हर भाग चिकित्सा की दृष्टी से लाभदायक माना जाता है| आज यहाँ हम पलाश के फूल के फायदे और नुकसान जानेंगे और यह भी जानेंगे की इसके दुसरे भागों का कैसे रोग उपचार में इस्तेमाल करें| तो आइये जानते हैं palash phool benefits  side effects in Hindi के बारे में सम्पूर्ण जानकारी|

palash flower

पलाश के फूल, जड़, पत्ती, गोंद, बीज और छाल के औषधीय गुण | Medicinal Properties of Plash

पलाश की विभिन्न भागों में निम्न गुण पाए जाते हैं:

दर्द, सूजन और inflammation दूर करने वाले

loading...

बुखार घटाने वाले

गठिया की समस्या ख़तम करने वाले

पेट के कीड़े मारने वाले

diuretic

यौनशक्ति वर्धक गुण

पाचक,पोषक और कब्ज दूर करने वाले गुण

शरीर की सफाई करने वाले और शुगर घटने वाले गुणों के अलावा पलाश में बहुत से और मेडिसिनल गुण पाए जाते हैं|

पलाश के फूल के फायदे | पलाश की जड़, गोंद, पत्ती, छाल के फायदे  | पलाश के बीज और फल के फायदे | Benefits of palash tree in Hindi

पलाश का स्वाद कडवा होता है और इसका उपयोग पाचन को बढ़ने में किया जाता है| इसकी तासीर गर्म होती है और इसका उपयग यौन शक्ति वर्धक और कब्ज दूर करने के लिए किया जाता है| पलाश के भाग का इस्तेमाल हड्डियों के फ्रैक्चर, शरीर में गांठ होना, वात से सम्बंधित रोग, बवासीर, पेट में कीड़े और गुदा के रोग आदि दूर करने में किया जाता है|

पलाश के फूल के फायदे

dhak के फूल में दर्द निवारक गुण पाए जाते हैं जो की शरीर में दर्द या मोच आने के कारण दर्द के इलाज में काम आते हैं| ऐसे ही गुण इस पेड़ की छाल में भी पाए जाते हैं|

पलाश के फूल को पानी में पूरी रात के लिए भिगोकर गर्मिओं में बच्चों को नहलाने से बच्चों को कभी skin  एलर्जी  या त्वचा संबधी रोग नहीं हो पाते|

इस पेड़ के फूल बाँझपन और नपुंसकता दूर करने में सहायक होते हैं| ये फूल लड़कियों में होने वाली पीरियड में अनियमित्ता और पीरियड के दौरान पेट में दर्द होने की समस्या को दूर करने के काम आते हैं|

फूलों में खून साफ़ करने वाले गुण पाए जाते हैं जो की शरीर से हानिकारक पदार्थों को दूर करने में मदद करते हैं| फूलों की पेस्ट गठिया, चोट और मोच की सूजन को दूर करने में काम आते हैं|

पलाश के फूल के फायदे सुन्दरता बढाने में भी हैं इसीलिए टेसू के फूल का उपयोग face packs में किय जाता है जिससे आपको gori और glowing skin मिलती है| इसके अलावा ये फूल लड़कियों में पीरियड में ज्यादा ब्लीडिंग होना की समस्या को भी दूर करते हैं|

पलाश की पत्ती के उपयोग

पलाश की पत्तीओं को उबाल कर और पानी को छान कर लड़कियों में होने वाले लिकोरिया यानि सफ़ेद पानी आना के इलाज में किया जाता है|

पत्तीओं का लेप त्वचा सम्बन्धी रोग जैसे फोड़े फुंसी, pimples, त्वचा में सूजन और त्वचा के घाव जल्दी भरने में मदद करता है|

पलाश की जड़ के लाभ

पलाश की जड़ में दर्द निवारक गुण पाए जाते हैं तथा इसका उपयग रतौंधी, night blindness और दूसरी आँख सम्बन्धी बीमारियाँ ठीक करने में किया जाता है|

पलाश की गोंद किस काम आती है

पलाश की गोंद में दस्त दूर करने वाले गुण पाए जाते हैं| इसकी गोंद को पंजाबी में कमरकस के नाम से जाना जाता है जिसका उपयोग बच्चा होने के बाद माँ को शक्ति प्रदान करने, कमर दर्द दूर करने और गर्भाशय के आकर को फिर से सामान्य करने के लिए किया जाता है|

पलाश की छाल के उपयोग

पलाश की छाल के पाउडर का लेप घाव, गांठ, और फोड़े फुंसी को दूर करने के लिए किया जाता है| इसके दर्द निवारक और सूजन घटने वाले गुण आपको जल्द आराम दिलवाने में शःयता करते हैं|

पलाश की छाल में पेट के कीड़े मारने वाले, भूख बढ़ने वाले, कब्ज मिटने वाले, मर्दाना ताकत बढ़ने वाले गुण पाए जाते हैं| छाल का उपयोग लीवर सम्बन्धी रोग, बवासीर का इलाज, यौनरोग (gonorrhea), फ्रैक्चर आदि के उपचार में किया जाता है| छाल के जूस का उपयोग गल्खंड के इलाज में भी किया जाता है|

पलाश के फल और बीज

पलाश के बीज में Palaosin नमक एक रसायन पाया जाता है जिसमें पेट के कीड़े मरने वाले गुण साथ ही इन बीजों में कब्ज को ख़तम करने वाले गुण भी पाए जाते हैं|

बीजों और फलों में बवासीर को जड़ से ख़तम करने वाले और आँखों की समस्याओं को दूर करने वाले गुण पाए जाते हैं|

बीजों का उपयोग नपुंसकता और नामर्दी सम्बंधित समस्याओं को दूर करने में भी किया जाता है|

पलाश के फायदे और घरेलु नुस्खे | Palash Benefits and Home Remedies in Hindi

पलाश के और बहुत से लाभ, उपयोग हैं जिनमें से कुछ हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ अच्छे घरेलु नुस्खों के द्वारा|

खांसी का इलाज

यदि आपको बार बार खांसी हो रही है तो पलाश की छाल का छोटा सा टुकड़ा पानी में कुछ देर उबालें और इसे छानकर पीने से आपकी खांसी की समस्या दूर होगी| इसकी थोड़ी थोड़ी मात्र समय समय पर पीते रहे|

शरीर में सूजन

सूजन कहीं भी हो पलाश की छाल का पानी पीने से उसे कम किया जा सकता है| इसी प्रकार यदि आपका सर दर्द हो रहा है तब भी आप यह पानी पी कर आराम पा सकते हैं|

दाद, खाज का इलाज

पलाश के बीज के पाउडर दाद पर समय समय पर लगाना  दाद और खाज का रामबाण इलाज माना जाता है|

अंडकोष में दर्द और सूजन

पलाश के पत्तों को पीसकर और उबाल कर अंडकोष पर लेप करने से अंडकोष में दर्द और सूजन की समस्या ठीक हो जाती है|

मुहं और गले में छाले का इलाज

पलाश की गोंद के पाउडर को पानी में घोल कर मुह और गले की छालों पर लगने से छाले जल्दी ठीक हो जाते हैं|

बालतोड़ का इलाज

पत्तियों की पेस्ट फोड़े वाली जगह पर लगाने से बालतोड़ जल्दी ठीक होने लगता है|

लिकोरिया का इलाज

लिकोरिया यानि लड़कियों के सफ़ेद पानी आने की समस्या  साथ ही पीरियड में अधिक blood आने की problem को कमरकस के पाउडर को दूध के साथ पीकर ख़तम किया जा सकता है| पलाश की पत्तियों को उबाल कर पानी का उपयोग आप योनी में इन्फेक्शन को दूर करने में कर सकती हैं|

पीरियड में ज्यादा blood आना

पीरियड heavy होने की सिथि में आप पलाश के फूलों की चाय बनाकर यदि आप पीती हैं तो आपकी समस्या ठीक होने लगती है| इस चाय से आपके जन्नागों में इन्फेक्शन भी ठीक हो जाता है|

धोभी खुजली

धोभी खुजली को रोकने के लिए पलाश की छाल के पाउडर में निम्बू का रस मिलाकर पेस्ट बनाइये| इस पेस्ट को खुजली वाली जगह पर लगाने से खारिश दूर हो जाएगी|

पलाश के कुछ और घरलू नुस्खे और लाभ

  • कहते हैं पलाश  के फूल की पेस्ट को दूध में मिलाकर pregnant स्त्री को देने से होने वाला बच्चा बलशाली पैदा होता है|
  • अंडकोष का साइज़ यानि आकर बढ़ गया है तो पलाश की छाल के 6 ग्राम पाउडर को पानी के साथ लेने से आराम मिलता है|
  • गाय की दूध के साथ पलाश के कोमल पत्ते गर्भवती स्त्री यदि पीती है तो होने वाला बच्चा शक्तिमान पैदा होता है यानि बलशाली|
  • कहते हैं पलाश के बीजों की पेस्ट को पेट पर लगाने से अनचाहे गर्भ से छुटकारा मिल सकता है|
  • पेशाब में जलन होने की समस्या में पलाश के फूलों का एक चमच्च रस दिन में 3 बार पीने से फायदा होगा|
  • घाव भरने में परेशानी हो रही है तो पलाश की गोंद का पाउडर घाव पर लगने से वह जल्दी भर जाता है|
  • नजर कमजोर होने का इलाज करने के लिए पलाश के फूल का रस शहद में मिलकर आँखों में लगाने से फायदा होगा है|
  • वीर्य बढाने का उपाय एक यह भी है की पलाश की गोंद की एक से तीन ग्राम मात्र मिश्री युक्त दूध के साथ लेने से मर्दाना ताकत और वीर्य में वृद्धि होती है|
  • बवासीर का घरलू इलाज के लिए पलाश के पत्तों के साग में घी मिलाकर दही के साथ खाने से फायदा होता है|
  • बिच्छु के काटने के इलाज में आप पलाश के बीज के पाउडर में आक का दूध मिलाकर लगायें फायदा होगा|
  • पलाश का कमर के दर्द में किस तरह से use किया जाता है हमारे दुसरे लेख – कमरकस के फायदे में पढ़िए|

पलाश के नुकसान | palash side effects in Hindi

पलाश के किसी भी भाग का प्रेगनेंसी या बच्चे को दूध पिलाने के दौरान सेवन करना खतरनाक हो सकता है| इसके अलावा पलाश का रोग उपचार में लम्बे समय तक प्रयोग करना पेट संबधी रोग, किडनी संबंदी रोग और एनीमिया जैसे नुकसान या साइड इफेक्ट्स कर सकता है| पलाश के फूल, जड़, छाल बीज आदि के साइड इफ़ेक्ट से बचने के लिए आप वैध की सहायता लें और अपने आप कोई भी उपचार शुरू न करें|

पलाश के फायदे और नुक्सान आपने जान ही लिए लेकिन हम आपसे एक बात कहना जरुर चाहेंगे की ऊपर दिए गए घरेलु नुस्खे बिना की वैध का डॉक्टर की सलाह के रोग उपचार में इस्तेमाल न करें|

लोगों की इतनी help की लेकिन youtube चैनल subscribe किसी ने नहीं किया अभी तक

 

loading...

LEAVE A REPLY