डिलीवरी के बाद स्तन (ब्रैस्ट) में दूध बढाने के लिए क्या खाएं घरेलु तरीके और उपाय -Home remedies on how to increase breast milk production in hindi

0

बच्चा होने के बाद स्तन में दूध कम बनना – कैसे बढाएं मिल्क के बारे में जानकारी | Less or Low Milk Production after delivery

प्रेगनेंसी पीरियड यानि गर्भकाल अपने साथ जहाँ एक और नन्हे मेहमान के आने की ख़ुशी लाती हैं तो कुछ महिलाओं के लिए कई प्रकार की मुसीबतें भी लेकर आती है ऐसी एक समस्या है डिलीवरी के बाद स्तन में दूध यानि ब्रैस्ट मिल्क का प्रोडक्शन कम होना| इससे नयी बनी माँ को यह चिंता हो जाती हैं की स्तन में दूध की कमी होने से शायद उनके बच्चे को पोषण नहीं मिल पायेगा और बच्चा कमजोर या बीमार हो जायेगा| वैसे कुछ लेडीज में ब्रैस्ट मिल्क बनना दूसरों से कम हो सकता है लेकिन समय के साथ बढ़ भी जाता है| लेकिन आप स्तन में दूध बढ़ने के घरेलु उपाय, नुस्खे और तरीके अपनाकर ब्रैस्ट मिल्क को increase कर सकती हैं| इसके अलावा कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिन्हें खाकर आप स्तन में दूध की मात्रा बढ़ा सकती हैं वो भी बिना किसी दूध को बढाने वाली दवा का medicine के| साथ ही आप जानेंगे की स्तन में दूध बढाने के लिए क्या खाएं| लेकिन सबसे पहले आप कुछ जरुरी बातें जान लीजिये|

breast milk kaise badhaye

कैसे पता करें की स्तन में दूध कम है या सामान्य है | कैसे जाने की दूध का प्रोडक्शन सही मात्रा में हो रहा है

स्तन में दूध कम आना देखकर चिंता होना लाजमी हैं लेकिन यदि आपके साथ ऐसा होता है तो दुनिया में आप अकेली नहीं हैं भारत में हजारों महिलाएं इन्टरनेट पर दूध बढ़ने का तरीके ढूँढती हैं या ब्रैस्ट मिल्क बढ़ने की दवा, कैप्सूल या डाइट के बारे में जानकरी सर्च करती हैं|

आपके स्तन में दूध की सही मात्रा बन रही है का पता लगाने के लिए सबसे अच्छा तरीका है आपके बच्चे का वजन बढ़ना| लेकिन यहाँ ध्यान दीजिये की – डिलीवरी होने के बाद आपका बच्चा मोटा होता है लेकिन कुछ दिन वह थोडा सा कमजोर होता है जो की नार्मल बात है यानि पहले 4-5 दिन बच्चे का वजन कम होने लगता है लेकिन इसके बाद के 14 दिन में बच्चा फिर से पहले जितना weight gain कर लेता है जो की आपको यह जाने में मदद करता है की बच्चे को पूरा दूध मिल रहा है|

डिलीवरी के बाद बच्चे को सही मात्रा में पूरा दूध मिलने के लक्षण और संकेत क्या होते हैं?

loading...

बच्चे को माँ का पूरा दूध मिलने के निम्न संकेत होते हैं जिनपर आपको नजर रखने की जरुरत होती है क्योंकि इन लक्षणों से आपको यह पता चलता है की क्या आपके स्तन में बच्चे के लिए प्रयाप्त दूध बन रहा है या नहीं|

स्तनपान करवाने में आपको दर्द महसूस नहीं होगा

बच्चा 6 से 8 बार माँ का दूध दिन में आराम से पीता है

दूध पिलाने के बाद स्तन आपको खली लगें और हलके लगें

दूध पीते समस्या बच्चे का दूध निगलने की आवाज़  से आपको पता चल जायेगा की उसे सही मात्रा में दूध मिल रहा है

बच्चे को यदि नार्मल मात्रा में मिल्क मिलता है तो baby 24 घंटों में कम से कम 7 बार पेशाब करता है|

डॉक्टर्स ने ऐसा पाया है की अधिकतर मामलों में problem स्तन में कम दूध बनना नहीं होती बल्कि स्तन में दूध तो सही मात्रा में बनता है लेकिन बच्चा उससे पी नहीं पाता इसलिए आपको बच्चे को दूध पिलाने का सही तरीका सीखना होगा इसके लिय आप किसी दी या डॉक्टर से जान सकते हैं की दूध पिलाने का सही तरीका क्या है जिससे baby को मिल्क पूरी तरह से मिल सके|

स्तन में दूध बढाने का रामबाण उपाय ये है की आप जितना अपने बच्चे को दूध पीलायेंगी उतना ही अधिक दूध बनने लगेगा| अक्सर देखा गया है की डिलीवरी के बाद होने वाला बच्चा सोता रहता है और दूध कम पीता है तो इस केस में बच्चे को बीच बीच में उठाकर दूध पिलाएं| इससे ब्रैस्ट में मिल्क बढाने में मदद मिलेगी और बच्चा कमजोर नहीं होगा|

विशेष जानकारी :- दूध बढ़ने का फार्मूला या ब्रैस्ट मिल्क बढाने के लिए दवा, कैप्सूल लेने से दूध की मात्रा कम हो सकती है इसलिए डॉक्टर कहते हैं की अपने शरीर को प्राकर्तिक ढंग से काम करने दो मतलब जब बच्चे की दूध की डिमांड हो तब उसे पूरा करने की कोशिश करें इससे दूध बनना अपने आप ही प्राकर्तिक रूप से बढ़ जायेगा|

यदि आपको फिर भी लगता है की आपके स्तन में सही मात्रा में मिल्क बन रहा है लेकिन फिर भी आपके बच्चे का वजन कम हो रहा है तो अपने डॉक्टर से मिलिए| डॉक्टर बच्चे और आपकी जांच करके आपके सही सलाह और इलाज दे देगी|

स्तन में दूध बढाने के लिए क्या खाएं | दूध बढाने के घरेलु नुस्खे और उपाय | ब्रैस्ट मिल्क बढाने का तरीका | Indian Home remedies for increasing breast milk production in Hindi

पुरानी दाई और बुजुर्ग लोगों के अनुसार कुछ खाद्य पदार्थ खाकर आप अपने स्तन में दूध को बढ़ा सकते हो| भारत में कुछ स्तन में दूध को बढाने के घरेलु नुस्खे और उपाय अपनाएं जाते हैं जो की हमारे पूर्वजों की देन हैं| तो चलिए जानते हैं की क्या खाने से स्तन में दूध को आप natural तरीके से बढ़ा सकती हैं| हमेशा ध्यान रखिये की दूध बढाने के लिए जो भी खाएं हमेशा limit में और उतना ही खाएं जितना आपका डॉक्टर या कोई जानकार खाने के लिए कहे अन्यथा आपको या आपके बच्चे को problem हो सकती है|  यहाँ हम आपको कुछ जड़ी बूटियाँ यानि herbs और कुछ खाद्य पदार्थ बताएँगे जिन्हें खा कर आप ब्रैस्ट मिल्क increase कर सकती हैं|

मेथी से स्तन में दूध बढाने का तरीका और नुस्खा

मेथी के लेडीज के लिए बहुत फायदे हैं जैसे मेथी से स्तन बढ़ाना, पीरियड सम्बन्धी समस्याएं दूर करना और इसके अलावा आप मेथी को सदियों से दाई माएं और औरतें डिलीवरी के बाद दूध की सप्लाई बढाने के घरेलु नुस्खे और उपाय के रूप में इस्तेमाल कर रही हैं| मेथी के बीजों में पोषक तत्व जैसे विटामिन्स, omega fatty acids पाए जाते हैं जो की आपके दूध को तो बढाने में मदद करते ही हैं साथ ही मेथी खाने से आपके बच्चे का विकास भी अच्छा होता है| मेथी ले पत्तों का साग यदि आप कुछ दिन खाएं या मेथी के दानों की चाय का पानी आप कुछ दिन पीयें तो आपको और आपके बच्चे को भरपूर मात्र में B काम्प्लेक्स विटामिन्स के अलावा आयरन और कैल्शियम जैसे मिनरल्स मिलते हैं| मेथी के पत्तों को आप पूड़ी, परांठा और रति बनांते समय भी इस्तेमाल कर सकती हैं|

लेकिन ध्यान रखिये की यदि आपको मूंगफली या सोयाबीन से एलर्जी है तो मेथी आपके लिए सही नहीं होगी|

सौंफ से स्तन का दूध बढाने का घरेलु उपाय

आपने सुना होगा की सौंफ खाने से मिल्क का प्रोडक्शन बढ़ता है| सौंफ स्तन का दूध बढाने की natural दवा है जिसके सेवन से आपको और आपके बच्चे को पेट के रोग नहीं होते| आप सौंफ का पानी पीकर या सौंफ की चाय पीकर अपने दूध के मात्रा को बढ़ा सकती हैं साथ ही इससे आपके बच्चे को पेट सम्बन्धी परेशानी जैसे दस्त, पेट दर्द आदि नहीं होंगे|

लहसुन से ब्रैस्ट मिल्क बढ़ता है

लहसुन में एंटीबायोटिक गुण होते हैं और दुसरे औषधीय गुण भी| कहते हैं लहसुन से माँ डिलीवरी के बाद अपने स्तन में दूध को बढ़ा सकती हैं जिसके लिए कम मात्रा में ही लहसुन खाना चाहिए क्योंकि सिमित मात्रा से अधिक खाने से बनने वाले दूध में smell आ सकती है और दूध का स्वाद भी ख़राब हो सकता है| लहसुन खाने से कुछ माताओं ने यह भी पाया की उनका बच्चा अधिक चाव से दूध पीता है| यही कारण है की पुराने जानकार डिलीवरी के बाद लेडीज को लहसुन वाला दूध पीने की सलाह देती है|

खूब खाएं हरी पत्तेदार सब्जियां

पालक, मेथी, सरसों का साग, बथुआ आदि हरी पत्तेदार सब्जियों में भारी मात्रा में विटामिन्स, मिनरल्स और दुसरे पोषक तत्व पाए जाते हैं जैसे आयरन, कैल्शियम, folate आदि| ये सभी पोषक शरीर के कार्यों को बेहतर बनांते हैं जिसमें कम दूध को बढ़ाना भी शामिल है| स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को सलाद तो खाना ही चाहिए साथ ही हरी पत्तेदार सब्जियां भी खूब खानी चाहिए और रोजाना जिससे डिलीवरी के बाद आपका शरीर जल्दी से recovery करेगा और आपके बच्चे को पोषण भी अच्छा मिलेगा|

जीरा से बढ़ता है स्तन का दूध

जीरा जिसे हम इंग्लिश में cumin seeds कहते हैं के सेवन से भी स्तन में दूध का प्रोडक्शन अच्छा होता है| जीरा खाने से माँ और नए जन्मे बच्चे को पेट सम्बन्धी problems जैसे कब्ज, गैस, पेट दर्द, एसिडिटी आदि परेशानियां नहीं होती| जीरे में कैल्सियम और riboflavin की भी अच्छी मात्रा पायी जाती है| जीरे को आप जीरा पानी, चटनी, दही आदि के साथ खा सकती हैं|

तिल के बीज से दूध बढाने का घरेलु उपाय

तिल के बीजों में कैल्शियम की भरपूर मात्रा पायी जाती हैं जो की स्तन पान करवाने वाली महिलाओं के लिए अच्छा होता है| कैल्शियम से आपके बच्चा का विकास और वृद्धि अच्छे से होती है| आप तिल के लड्डू दूध के साथ रोजाना खाकर अपने स्तन के दूध को बढ़ा सकती हैं| तिल की गजक और रेवड़ी खाना भी अच्छा होता है| तिल का इस्तेमाल सर्दियों में ही करना चाहिए क्योंकि इनकी प्रकर्ति गर्म होती है|

तुलसी की चाय पीने से भी दूध बढ़ता है

तुलसी वैसे तो दूध नहीं बढ़ाती लेकिन इसके औषधीय गुण आपके शरीर के कार्यों को मजबूत बनाते हैं जिससे आपका शरीर सामान्य रूप से कार्य करता है जिसमें से एक कार्य है की स्तन में दूध को सही मात्रा में बनाना| तुलसी की चाय पीने से आपका पेट सही रहता है और आपकी भूख बढती है जिससे आप अधिक खाती हैं और जिसके फलसवरूप आपको अधिक पोषण मिलता है और दूध की कमी दूर होती है|

दिल के बीज यानि सुवा से दूध कैसे बढ़ता है

दिल के बीज यानि सुवा में आयरन, मैग्नीशियम और कैल्शियम अच्छी मात्र में पाया जाता है| दिल के बीज खाना स्तन में दूध बढाने की एक अच्छी प्राकर्तिक medicine मानी जाती है| दिल खाने से आपकी नींद बेहतर होती है और पाचन शक्ति भी| सुवा की चाय पीकर या दिल के बीजों को चटनी, सलाद या करी आदि के साथ खा कर आप ये फायदे पा सकती हैं| भारत में सुवे की चाय को डिलीवरी के बाद नयी बनी माँ को देना बहुत अच्छा मानता जाता है|

कुछ सब्जियां खाने से स्तन में दूध बढाने में मिलती है help 

लौकी, टिंडा, तौरी – ये तीन सब्जियां खाने से ब्रैस्ट मिल्क को आप बढ़ा सकती हैं| नयी बनी माँ को डिलीवरी के बाद पाचन और भूख की परेशानी होना आम बात है| ये तीन सब्जियां खाने से केवल दूध की सप्लाई नहीं बढती बल्कि ये हलकी फुलकी सब्जियां होते हैं जो पचने में आसान और पोषण से भरपूर होती है|

दाल खाएं रोजाना – कौनसी दाल खाने से दूध बढ़ता है

डिलीवरी के बाद दाल खाकर जैसे मसूर की दाल, लाल दाल आदि से दूध को बढाने में काफी मदद मिलती है और आपको अच्छी मात्रा में प्रोटीन, आयरन और फाइबर मिलता है जो आपके और आपके नए बच्चे की सेहत के लिए बहुत जरुरी होता है|

ड्राई फ्रूट्स खाने से भी मिल्क increase होता है

सूखे मेवे यानि ड्राई फ्रूट्स जैसे बादाम, काजू, आदि को दूध के साथ खाने से तेजी से दूध बढ़ने लगता है साथ ही आपको उर्जा, विटामिन्स और मिनरल्स भी मिलते हैं| बादाम का दूध, पिस्ता बादाम और काजू खिश्मिश को पंजीरी या लड्डू के साथ मिलाकर आप खा सकती हैं या फिर ड्राई फ्रूट्स को हलुवा बनाते समय दाल कर सेवन कर सकती हैं जिससे आपको बहुत से स्वास्थ्य लाभ मिलेंगे|

दलिया खाइए रोजाना

दलिया और oats में अच्छी मात्रा में फाइबर होता है जो की आपके पाचन को सुधरता है और आपके पेट की सेहत को अच्छा रखने में मदद करता है| oats  और दलिया रोजाना खाने से दूध स्तन में बढ़ता है और इनके पोषण से आपको मानसिक तनाव और depression की समस्या भी कम होती है|

दूध बढाने के आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे, उपाय या दवा के रूप में उपरोक्त herbs और खाद्य पदार्थों का इस्तेमाल किया जाता है जो की सुरक्षित दूध बढ़ने का घरेलु तरीका होता है| यदि आपको किसी कारण से या किसी रोग के कारण स्तन में दूध की कमी है तो आप डॉक्टर से दूध बढाने वाला कैप्सूल या दवाई भी ले सकती हैं जो एक दो दिनों में मिल्क की प्रोडक्शन तेज कर सकती हैं| लेकिन बिना डॉक्टर की सलाह के कोई भी दवा लेना या इन्टरनेट से पढ़कर अपने आप किसी दूध बढाने की दवा का सेवन करना आपके और आपके बच्चे के लिए घातक हो सकता है|

क्या स्तन में दूध बढाने के लिए मुझे ज्यादा खाना पीना चाहिए?

इसका सही जवाब आपकी डॉक्टर आपका check up करके और प्रेगनेंसी के दौरान और डिलीवरी के बाद में आपके सेहत की जांच और इतिहास के आधार पर दे सकती है| कुल मिलाकर आप कमजोर हैं शुरू से या डिलीवरी के बाद तो आपको कैलोरीज अधिक पाने के लिए थोडा अधिक खाने पीने की सलाह दी जाती है इसके अलावा आपको डॉक्टर जरुरी सप्लीमेंट या दूध के साथ पीने का पाउडर भी दे सकती है जिससे आपकी शारीरिक कमजोरी दूर हो|

दूध बनाने में आपके शरीर से पोषण का इस्तेमाल होता है इसलिए आपको थोडा एक्स्ट्रा खाकर पोषण की नियमित मात्रा को अपने शरीर में बनाये रखना होता है| इसलिए भूख लगे तब आप कुछ खा लें जिससे आपको पोषण मिले उसी तरह प्यास लगे तो ढील मत बरतिए और शरीर में पानी की कमी मत होने दीजिये|

दूध जब बनता है तब आपके शरीर में oxytocin होरमोन बढ़ने से आपको प्यास अधिक लगती हैं इसलिए पानी को अपने आस पास ही रखिये और बार बार पीते रहे|

खाने पीने की अधिक जानकारी या डिलीवरी के बाद डाइट chart बनवाने के लिए आप अपनी डॉक्टर का डायटीशियन की help ले सकती हैं|

क्या स्तन की मालिश करने से दूध बढ़ता है?

मालिश करने से दूध की मात्रा पर असर नहीं पड़ता लेकिन इससे स्तन से जुडी समस्याएं जैसे गांठ बनना, दूध की बंद नालियां khulna, स्तन की कठोरता और दर्द में राहत मिलना जैसे फायदे होते हैं| लेकिन अधिक या गलत तरीके से मालिश आपको परेशानी में भी डाल सकती है इसलिए किसी जानकार की सलाह और मार्गदर्शन में ही ऐसा करें|

तो कैसी लगी आपको स्तन में दूध बढाने के घरेलु तरीके और नुस्खे के बारे में हमारी जानकारी? यदि अभी भी आपको कोई परेशानी है या आपको कोई जरुरी प्रशन पूछना है तो हमारी डॉक्टर आपको आपकी स्तन में दूध से जुडी समस्या का जवाब देने में मदद करेगी| आप नीचे कमेंट बॉक्स में अपने प्रशन पूछ सकती है|

लोगों की इतनी help की लेकिन youtube चैनल subscribe किसी ने नहीं किया अभी तक


 

loading...