गुदा मार्ग में गांठ होना के कारण और इलाज

0

गुदा में गांठ होना – क्या होती है गुदा में गांठ और क्यों होता है दर्द?

Guda me ganth hone ko English me Rectal Lump ya bump kehte hain

गुदा में गांठ होना गुदा में पाई जाने वाली रक्त वाहिका मैं सूजन से, खून का थक्का बनने से या किसी और कारण से जैसे इन्फेक्शन गुदा में फोड़ा फुंसी होना या बवासीर की समस्या के कारण बन सकती है| लोग यह भी शिकायत करते हैं कि उनकी गुदा की गाँठ तब बाहर आती है जब वह मल त्याग करते हैं और जोर लगाते हैं| गुदा की गाँठ गुदा के ठीक बाहर या अन्दर की तरफ हो सकती है| यह गांठ अलग अलग प्रकार और आकार की हो सकती है और इस गांठ के कई भी हो सकते हैं जैसे गुदा में सूजन और दर्द या मल के साथ खून आना| कई बार गुदा मार्ग में बनने वाली गाँठ दर्द नहीं करती और कुछ दिनों बाद अपने आप सही या ठीक भी हो जाती है | लेकिन यदि आपको गुदा की गांठ के कारण होने वाले लक्षण जैसे तेज दर्द, खड़े होने या बैठने में परेशानी ,गुदा में दर्द का बने रहना या मल में खून आना जैसे लक्षण दिखाई दे तो डॉक्टर से इसके लिए दवा या मेडिसिन लेना ही सही होगा और तेज इलाज भी|

guda me ganth hona

गुदा मार्ग में गांठ होने के कारण | guda me ganth ke karan reasons

आमतौर पर गुदा में गांठ होने के दो कारण होते हैं पहला होता है बवासीर के कारण और दूसरा होता है गुदा में मस्से का बनना| बवासीर के कारण बनने वाली गाँठ गुदा में पायी जाने वाली खून की नालियों के सूजने से बनती हैं जिससे आपको गुदा में गांठ या उभार होने का एहसास होता है| ऐसी गांठ गुदा के ठीक बाहर या अंदर हो सकती है और मल त्याग के समय आपको तेज दर्द सहना पड़ता है| अधिकतर देखा गया है कि बवासीर यानी पाइल्स के कारण होने वाली गुदा की गांठ कुछ दिनों बाद अपने आप सही हो जाती है| लेकिन यदि यह बिगड़ जाए और आपको तेज दर्द और मल में खून आने की समस्या हो तो इससे इन्फेक्शन भी फैल सकता है और बवासीर की समस्या खूनी हो सकती है इसलिए ऐसा होने पर डॉक्टर से इलाज ले लेना ही सही रहेगा|

loading...

दूसरा कारण गुदा में गांठ होने का होता है – गुदा में मस्से का बनना और ऐसे मस्से अधिकतर एचपीवी यानि human papilloma virus   से इंफेक्शन होने पर बनते हैं| गुदा में मस्से का बनना STD यानी यौन रोग भी हो सकता है और यदि आपके मस्से इस वायरस के कारण बने हैं तो आपको इसका इलाज करवाना चाहिए क्योंकि इलाज ना करवाया जाए तो ये मस्से गुदा के कैंसर का रूप भी ले लेते हैं|

गुदा मार्ग में गांठ होने का तीसरा कारण हो सकता है गुदा में फुंसी फोड़े का बनना और ऐसे फोड़े और फुंसी बनने के कारण हो सकते हैं जैसे  गुदा में पाई जाने वाली ग्रंथियों में रुकावट, यौन रोग, गुदा से संबंधित इन्फेक्शन होना, चोट लगना, आंत में इन्फेक्शन होना, मधुमेह का रोगी होना, किसी रोग को दूर करने के लिए ली जाने वाली स्टेरॉयड युक्त दवा या अधिक दर्द निवारक दवाइयां लेने से होने वाला साइड इफेक्ट|

गुदा में गांठ बनने का मुख्य कारण होता है गुदा में पाई जाने वाली ब्लड वेसल्स में सूजन आना या गलियों में खून का जमना और यह कई कारणों से हो सकता है जैसे कब्ज की शिकायत रहने से, मल त्याग के समय अधिक जोर लगाने से, अधिक देर तक बैठने से, शरीर में पानी की कमी होने से आदि|

गुदा में गांठ होने के लक्षण | symptoms of rectal lump or bump

गुदा मार्ग में गांठ होने के कई लक्षण हो सकते हैं जैसे गुदा में मल त्याग के समय गाँठ का बाहर आना, गुदा से ब्लड आना, आपको बैठने में परेशानी होना, गुदा में गांठ के कारण बुखार आना, गाँठ से पस या मवाद का बहना, गांठ के कारण मल त्याग करने से डरना के इलावा गुदा मार्ग में गांठ होने के और भी कई लक्षण हो सकते हैं| यदि आप के लक्षण गंभीर हैं जैसे आपको तेज बुखार आ रहा है या गुदा से खून या मवाद आ रही है यह गांठ  बहुत लंबे समय से बनी हुई है तो डॉक्टर से इसका इलाज करवा लेना चाहिए क्योंकि ऐसे लक्षण गुदा में कैंसर की गांठ के कारण भी हो सकते हैं| समय पर जिसका इलाज करवा लेना ही समझदारी होती है क्योंकि कैंसर बढ़ने के बाद उसका इलाज उतना ही कठिन हो जाता है|

guda me ganth ka ilaj | गुदा मार्ग में गांठ का इलाज और उपचार के घरेलू तरीके या उपाय क्या हैं

गुदा में गांठ होने पर खासकर जब आपको गांठ के लक्षण गंभीर नजर आए तो गुदा की गांठ के इलाज के लिए घरेलू तरीके या उपचार के उपाय नहीं अपनाने चाहिए| क्योंकि घरेलू तरीकों से आप इंफेक्शन को ठीक नहीं कर सकते| चूँकि गुदा एक बहुत ही नाजुक जगह है इसलिए घरेलू इलाज यदि काम ना करें तब आपको गंभीर समस्या होने की संभावना रहती है\ इसलिए जैसे ही आपको गुदा में गांठ के लक्षण महसूस हो या मल त्याग के समय गुदा की गाँठ बाहर आए तब आपको गांठ के इलाज के लिए डॉक्टर से जांच और इलाज करवा लेना चाहिए|

डॉक्टर गुदा की गांठ होना का इलाज शुरू करने से पहले गांठ की जांच करेगा की उस गांठ का कारण क्या है क्या वह गांठ कैंसर है? या फिर बवासीर या मस्से के कारण या फिर गुदा में सूजन किसी फोड़े के कारण हुई है|  इसके लिए डॉक्टर आपको अल्ट्रासाउंड, एम आर आई आदि जांच  से करवाने की भी सलाह दे सकता है|

गुदा में गांठ होने का सही कारण पता करके और लक्षणों के आधार पर आपको इलाज देगा जैसे

यदि आपकी गुदा की गांठ में जलन खुजली या बहुत कम इंफेक्शन है तो इस स्थिति में डॉक्टर आपको गुदा पर लगाने वाली क्रीम या दर्द निवारक सुन्न करने वाली दवाई देगा|

यदि गुदा में फोड़ा है तो तो डॉक्टर छोटे से ऑपरेशन द्वारा उस फोड़े में से मवाद को निकालकर उसे ठीक करेगा| इसके बाद आपको इन्फेक्शन रोकने के लिए कुछ दिन एंटीबायोटिक दवा या मेडिसिन देगा|

यदि गुदा में मस्सा बढ़ गया है तो उसके लिए वह आपको सर्जरी या ऑपरेशन करवाने की भी सलाह दे सकता है अधिकतर ऐसे मस्सों को लिक्विड नाइट्रोजन के इस्तेमाल से हटाया जाता है| यदि मस्सा गुदा के अंदर की तरफ है तो उसकी सर्जरी करवानी जरूरी हो जाएगी|

गुदा में गांठ का कारण बवासीर की समस्या है तो डॉक्टर इलाज के लिए आपको दर्द निवारक दवाइयां और क्रीम देगा और इसके अलावा आपको मल त्याग के समय अधिक दर्द या परेशानी ना हो के लिए आपको मल को नरम करने वाली दवाइयां यानी कब्ज निवारक दवाइयां भी देगा |

यदि आप को कब्ज की समस्या रहती है और आपको मल त्याग के समय अधिक जोर लगाना पड़ता है तो आप रोजाना कुछ दिन इसबगोल लेकर अपनी कब्ज की समस्या को दूर कर सकते हैं|

यदि आपको गांड में दर्द और सूजन है तो इसके लिए डॉक्टर आपको सुन्न करने वाली दवाइयां भी दे सकता है जैसे सुन्न करने वाली क्रीम या gel|

गुदा में गांठ होने के घरेलू इलाज और उपचार के उपाय या तरीके भी आप अपना सकते हैं जिससे आपको गुदा के दर्द और सूजन से राहत मिले|

इसके लिए आप गर्म पानी में कुछ देर के लिए बैठ सकते हैं जिसे गुदा  की दर्द और सूजन कम हो|

घरेलू उपचार में आप मल को सॉफ्ट करने वाले पदार्थ जैसे अंजीर, कब्ज निवारक चूर्ण, त्रिफला या इसबगोल जैसे खाद्य पदार्थ और दवाई का इस्तेमाल करके गुदा में गांठ के लक्षणों को कम कर सकते हैं|

यदि आपको घरेलू उपचार करना है तो किसी जानकार या आयुर्वेदिक वैद्य की सलाह के अनुसार ही ऐसा करें क्योंकि गुदा एक बहुत ही सेंसिटिव जगह है इसलिए आपको कोई रिस्क नहीं लेनी चाहिए| यदि लक्षण असामान्य हों तो सही समय पर डॉक्टर इलाज करवाना चाहिए|

यदि आपकी ganth छोटी है और कम दर्द वाली है तो ऐसी स्थितिमें गांठ अपने आप ही सही या  खत्म हो जाती है जिसमें कुछ दिन लग सकते हैं| लेकिन यदि गांठ ख़त्म ना हो और आकार में बढती जाए तब आपको इसका इलाज करवाने का सोचना ही होगा|

गुदा में गांठ होना से बचाव के तरीके और उपाय

गुदा में गांठ से बचने के लिए आपको कुछ सरल तरीके अपनाने चाहिए जैसे

अधिक देर बैठने से परहेज करें|

शराब, मिर्च मसालेदार, fatty फूड और अधिक तैलीय खाद्य पदार्थ खाने से परहेज करें|

दिन भर अधिक से अधिक पानी पिए ताकि आपको कब्ज की समस्या ना हो पाए|

आलस भरा जीवन छोड़कर नियमित एक्सरसाइज करना शुरू कर दें जिससे आपका स्वास्थ्य सही रह सके और आपके शरीर में खून का दौरा भी|

गुदा संबंधित कोई भी समस्या होने पर डॉक्टर से  अवश्य करवा लें ताकि समस्या बड़ी न हो पाए खासकर जब आपको गाँठ होने की समस्या बार बार होती हो|

अप्राकृतिक संबंध बनाने से परहेज करें क्योंकि इससे गोदा के रोग और यौन रोग होने की संभावना रहती है|

किसी दूसरे के अंडरवियर ना पहने इससे इन्फेक्शन का खतरा हो सकता है|

सहवास करते समय कंडोम का प्रयोग कीजिए|

गुदा की साफ सफाई का विशेष ध्यान रखिए|

अधिक टाइट अंडरवियर पहनने से परहेज कीजिए जिसे गुदा की नसों पर दबाव पड़ता है जिससे सूजन की समस्या हो सकती है|

अधिक देर तक साइकिल और बाइक चलाने से परहेज करिए और बीच-बीच में रुक कर अपने गुदा को आराम देते रहे|

पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट लंबे समय तक एक जगह अधिक देर तक बैठकर पढाई न करें और बीच-बीच में थोड़ा थोड़ा रेस्ट लेते रहे| पढ़ाई के बीच में ब्रेक लेने से गुदा पर पड़ने वाला दबाव कम होगा|

खाज खुजली होने पर बार-बार उंगली का इस्तेमाल ना करें ऐसा करने से नाखून से गुदा में चोट लग सकती है या घाव हो सकता है जिससे गांठ होने का खतरा बढ़ जाता है|

इसीलिए दोस्तों यदि आपको गुदा मार्ग में गांठ होने के गंभीर लक्षण जैसे तेज बुखार, गुदा से खून आना या मवाद निकलना, मल में खून आना और गांठ का बार-बार बनना की समस्या हो तो डॉक्टर से उसका इलाज ले लेना चाहिए| क्योंकि क्या पता है इस गांठ का कारण गुदा का कैंसर ही हो| इसलिए सही समय पर सही जांच और सही इलाज कराना ही समझदारी होगी|

लोगों की इतनी help की लेकिन youtube चैनल subscribe किसी ने नहीं किया अभी तक

 

loading...

LEAVE A REPLY