वर्टिगो के कारण, लक्षण और घरेलु देसी इलाज – चक्कर आना ट्रीटमेंट इन हिंदी

0

चक्कर आना का मेडिकल और इंग्लिश भाषा में मीनिंग होता है वर्टिगो या dizziness. वर्टिगो या चक्कर आने के समस्या किसी को भी कभी भी हो सकती है| चक्कर की problem से जो लोग जूझ रहे होते हैं उनको चलने फिरने में बहुत दिक्कत का सामना करना पड़ता है| वर्टिगो को समस्या पुरषों की अपेक्षा महिलाओं में अधिक देखने को मिलती है| वर्टिगो के बहुत से कारण यानि reasons हो सकते हैं| आम तौर पर तीन प्रकार के वर्टिगो देखने को मिलते हैं|

chakkar aana

पहला है ऑब्जेक्टिव वर्टिगो जिसमें रोगी को अपने चारों और की चीज़ें घुमती हुई प्रतीत होती हैं|

सब्जेक्टिव वर्टिगो में रोगी को अपना शरीर चलता या घूमता हुआ प्रतीत होता है|

loading...

तीसरा है pseudo वर्टिगो जिसमें रोगी को अपना सर चकराता हुआ फील होता है|

नीचे के भाग में हम वर्टिगो के कारण, लक्षण और घरेलु उपचार या इलाज के बारे में जानेंगे|

Loading...

वर्टिगो यानि चक्कर आने के कारण यानि reasons क्या हैं  | causes of vertigo

हम जानते हैं की वर्टिगो के रोगी को संतुलन बनाने में, चलने में, लिफ्ट से चदते उतारते समय और कार्यों को करने में खासी दिक्कत का सामना करना पड़ता है| शरीर का संतुलन यानि चक्कर आना के पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे

कान के अन्दर हुआ बैक्टीरियल या वायरल इन्फेक्शन

प्रेगनेंसी होने पर

Meniere’s रोग  जो की कान से सम्बंधित रोग है

Acoustic neuroma यानि तंत्रिका के कम्पन के कारण चक्कर आना

दिमाग की और जाने वाले खून में कमी आना

multiple sclerosis के कारण

सर में चोट लगने के कारण

migrane की समस्या होने पर

देखने सम्बंधित problem होने पर

एनीमिया यानि खून की कमी होना

high blood pressure

Low blood pressure.

diabetes होने के कारण

शरीर में पानी की कमी होना

शराब और दुसरे नशीले पदार्थों का सेवन करना

शरीर में cholestrol अधिक होने पर

थाइरोइड से सम्बंधित समस्या होने पर

रक्त वाहिकाओं के रोगों के कारण

लम्बे समय तक bed रेस्ट के बाद

शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर

ब्रेन tumor

दवाइयों का साइड इफ़ेक्ट

Motion sickness के अलवा और बहुत से कारणों के कारण चक्कर आ सकते हैं|

Vertigo के लक्षण क्या हैं | dizziness symptoms

वर्टिगो के रोगी को सब कुछ घूमता हुआ दिखाई देता है कभी कभी रोगी का सर चकराता है और उससे बेहोशी भी आ सकती है| वर्टिगो में चक्कर आने के साथ रोगी को उलटी, पसीना आना, आँखों का चड़ना आदि लक्षण भी हो सकते हैं| ये लक्षण कुछ मिनट्स से लेकर कुछ घंटों तक चल सकते हैं| रोगी को सुनने पे परेशानी और कानों में घंटियाँ बजती हुई भी सुने दे सकती हैं|  इनके अलावा निम्न लक्षण देखने को मिलते हैं

देखने में परेशानी

बोलने में दिक्कत

कमजोरी

खड़े होने या चलने फिरने में दिक्कत

जी मिचलाना

आँखों से दो चीज़ें दिखाई देना \

निगलने में परेशानी

हाथ पांव में कमजोरी

आँखों के सामने धुंधलापन

कान में दर्द

वर्टिगो का देसी घरेलु इलाज | vertigo treatment in Hindi

वर्टिगो का इलाज यानि घरेलु या देसी इलाज आपको चक्कर आने के लक्षणों से काफी आराम दे सकता है| ध्यान रहे आपको अपने डॉक्टर की दवाई नियमित लेनी है और उसके साथ आप निम्नलिखित चक्कर आना का देसी इलाज अपना सकते हैं ताकि आपकी परेशानी कम हो सके|

  1. 6 ग्राम आंवला पाउडर और 6 ग्राम सुखा धनिया पाउडर लीजिये| इन दोनों को पूरी रात एक गिलास पानी में भिगोकर रखिये| सुबह पानी को छान कर इसमें २ चम्मच मिश्री के मिलकर पीलें| ऐसा 4-5 दिन रोजाना करने से आपको चक्कर की समस्या से काफी रहत मिलेगी|  इसी माइग्रेन की समस्या में भी इस्तेमाल किया जा सकता है|
  2. कुछ ख़ास आसन या एक्सरसाइज आपको वर्टिगो की समस्या से आराम दिलवा सकते हैं जैसे Epley maneuver जिसमें आपको समतल सतह पर सीधा बैठना होता है टाँगे फैला कर|सबसे पहले आपको अपने सर 45 डिग्री राईट साइड में मोड़ना होता है और इसी स्तिथि में आपको पीछे रखे तकिये पर लेटना होता है| 30 सेकंड्स ऐसा रहने के बाद अपने सर को तकिये पर 90 डिग्री लेफ्ट साइड में मोड़ना होता है| फिर आपको लेफ्ट साइड में करवट लेनी होती है| उसके बाद ये एक्सरसाइज फिर से दोहरानी होती है| हो सकता है की पहले आपको ऐसा करने से ज्यादा चक्कर आयें लेकिन बाद में आपकी समस्या कम भी हो जाएगी|
  3. वर्टिगो के लिए योग की बात आती है तो आपको नियमित रूप से बालासन और शवासन का अभ्यास करना चाहिए ताकि आपके वर्टिगो के लक्षण कम हो सकें|
  4. डॉक्टर आमतौर पर पाने पेशेंट्स को विटामिन D के supplement देते हैं आप इस विटामिन को संतरा, टूना मछली, अंडा और दूध से भी प्राप्त कर सकते हैं| इस विटामिन की कमी के कारण चक्कर आ सकते हैं|
  5. Gingko biloba की 250mg मात्र रोजाना कुछ दिन लेने से वर्टिगो दूर होता है और आपका संतुलन बेहतर बनता है| इसी प्रकार रोजाना अद्रक की चाय पीने से भी चक्कर आना बंद हो जाते हैं|
  6. वर्टिगो होने पर कॉफ़ी, शराब, तबाकू आदि का सेवन वर्जित होता है क्योंकि ये पदार्थ वर्टिगो की समस्या को और ज्यादा बिगाड़ते हैं| आपको शराब और कॉफ़ी के स्थान पर नारियल पानी,निम्बू पानी, साधारण पानी पीकर अपने शरीर में आई निर्जलीकरण की समस्या को दूर करने के बार में जोर देना चाहिए|
  7. कम नींद वर्टिगो के लक्षण को और बढ़ा सकती है इसलिए रोजाना प्रयाप्त आराम करिए और भरपूर नींद लीजिये|
  8. high और low blood pressure होने पर डॉक्टर से दवाई लें| जब आपका bp कण्ट्रोल होगा तब चक्कर आना भी बंद हो जायेगा|
  9. रोजाना सुबह रात में 10 भिगोये हुए बादाम और एक गिलास दूध पीने से आपकी कमजोरी दूर होती है फलसवरूप चक्कर की समस्या दूर होती है|
  10. दही के साथ कुछ स्ट्रॉबेरीज खाने से भी काफी लाभ होता है|
  11. तुलसी और अद्रक की बनी चाय पीने से भी वर्टिगो की problem में आराम मिलता है|
  12. हल्दी की पेस्ट माथे पर लगाने से भी चक्कर आना कम हो जाते हैं|
  13. सौंफ और मिश्री दिन में दो बार खाने से भी रिलीफ मिलता है|
  14. अनार के एक कप जूस में एक निम्बू निचूद कर पीने से भी वर्टिगो में काफी आराम मिलता है|
  15. दो लौंग को एक कप पानी में उबाल कर पीने से भी चक्कर आना बंद हो जाते हैं|

तो दोस्तों, ये वर्टिगो के कारण, लक्षण और उपचार के बारे में छोटा सा लेख था| चक्कर आने पर अपने डॉक्टर से राइ और सही इलाज लेना मत छोडें साथ ही ऊपर दिए गए घरेलु उपचार भी अपनाएं ताकि आपकी स्तिथि जल्दी से जल्दी ठीक हो| भरपूर आराम करें और ड्राइविंग से कुछ दिन परहेज करें|

अपने जवाब जल्दी पाने के लिए हमारे channel को आज जी subscribe करें

 

loading...

LEAVE A REPLY