कैसे पता करें की ब्लीडिंग प्रेगनेंसी रुकने से हुई है या पीरियड के कारण – implantation और पीरियड की ब्लीडिंग में अंतर क्या होता है?

0

Pregnancy or Period Bleeding?

क्या आप बच्चे की लिए try कर रहे हैं या फिर आपने सम्बन्ध बनाने के बाद unwanted 72 या ipill जैसी pill ली है और अब आपको ये पता करना है की आपके जो ब्लीडिंग हुई है वो प्रेगनेंसी ठहरने या रुकने के कारण हो रही है या आपका पीरियड आया है| period है या प्रेगनेंसी के बारे में जानना उन महिलाओं के लिए जरुरी होता है जो या तो प्रेगनेंसी के लिए कोशिश कर रही हैं या फिर उन लड़कियों के लिए जो की प्रेगनेंसी से बचना चाहती है और जिन्हें पीरियड आने का इंतज़ार रहता है| आज हम जानेंगे की क्या अंतर होता है बच्चा रुकने के कारण होने वाली implantation ब्लीडिंग और पीरियड में होने वाली ब्लीडिंग में या यूँ कहें की कैसे जाने की आपको प्रेगनेंसी हुई है या पीरियड आया है|

kaise pata kare pregnancy hai ya period

implantation ब्लीडिंग क्या होती है| What is implantation bleeding in Hindi?

इंप्लांटेशन ब्लीडिंग होना प्रेगनेंसी का पहला लक्षण माना जाता है और यह बिल्डिंग तब होती है जब निषेचित अंडे (fertilized egg) गर्भाशय की दीवार पर जुड़ता है| गर्भ ठहरने के कारण होने वाली ऐसी bleeding एकदम समझ नहीं होती है| अधिकतर लड़कियों या महिलाओं को यह जानने में परेशानी आती है कि उन्हें होने वाली ब्लीडिंग प्रेगनेंसी रुकने के कारण है या पीरियड के कारण क्योंकि अधिकतर मामलों में दोनों प्रकार की ब्लीडिंग होने का समय और लक्षण लगभग एक समान होते है और अक्सर महिलाएं इंप्लांटेशन ब्लीडिंग और पीरियड में होने वाली ब्लीडिंग के कारण कंफ्यूज रहती हैं|

implantation ब्लीडिंग और पीरियड में अंतर | difference between implantation bleeding and a period?

वैसे तो गर्भ रुकने के कारण होने वाली इंप्लांटेशन ब्लीडिंग और पीरियड होने के लक्षण लगभग एक समान से होते हैं लेकिन फिर भी ऐसे अंतर होते हैं जिनसे  आप यह पहचान कर सकते हैं कि आपकी ब्लीडिंग होने का असली करण इंप्लांटेशन है या पीरियड|

loading...

सबसे पहला अंतर यह होता है कि इंप्लांटेशन ब्लीडिंग का रंग हल्का गुलाबी होता है या गहरा भूरा हो सकता है इसके विपरीत माहवारी शुरू होने आप की बिल्डिंग का कलर लाल या गहरे लाल रंग का होता है|

दूसरा तरीका प्रेगनेंसी रुकने और पीरियड के बीच में अंतर करने का या होता है कि इंप्लांटेशन के कारण होने वाली ब्लीडिंग कुछ घंटे या एक-दो दिन चलती है और खून की मात्रा कम होती है| वहीं दूसरी ओर पीरियड होने पर आपको खून अधिक मात्रा में आता है और ब्लीडिंग 4 से 7 दिन तक चल सकती है यानी पीरियड की जो ब्लीडिंग होती है इंप्लांटेशन ब्लीडिंग से लंबे समय तक चलती है|

इसके अलावा गर्भ रुकने की जो ब्लीडिंग होती है वह आमतौर पर पीरियड होने की डेट से थोड़ा पहले आती है जिससे कि आपको यह अंदाजा हो सकता है कि आपके होने वाली ब्लीडिंग  का कारण पीरियड है या प्रेगनेंसी|

आप ब्लीडिंग से पहले होने वाले दर्द से भी पहचान कर सकते हैं कि आपको ब्लीडिंग होने का करण बच्चे का रुकना है या महावरी का शुरू होना| आमतौर पर बच्चा ठहरने के कारण होने वाला दर्द हल्का होता है जो कि समय के साथ बढ़ता नहीं है इसके विपरीत पीरियड के कारण होने वाला दर्द तेज होता है और समय के साथ बढ़ सकता है|

पक्के रूप से कैसे पता करें की होने वाली ब्लीडिंग सही कारण क्या है ?

गर्भ रुकने के कारण होने वाली इंप्लांटेशन ब्लीडिंग और पीरियड में सही अंतर पता करने का सटीक तरीका है कि प्रेगनेंसी टेस्ट करना|  यदि आपको ऐसा लगता है कि ब्लीडिंग का कारण प्रेगनेंसी है तो ब्लीडिंग रोकने के 3 दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट कीजिए| लेकिन आमतौर पर डॉक्टर आपको ब्लीडिंग रुकने के 5 दिन बाद टेस्ट करने की सलाह देते हैं ताकि आपको सही रिजल्ट मिल सके क्योंकि इस समय आपके शरीर में प्रेगनेंसी हार्मोन की मात्रा अधिक होती है और आपको टेस्ट का परिणाम बिल्कुल सही मिलता है|

यह थे कुछ अंतर जिससे आप यह जान सकते हैं कि आपकी होने वाली ब्लीडिंग का असली कारण प्रेगनेंसी का रुकना है या पीरियड का होना| यदि आपके मन में अभी भी कोई शंका है तो आप गायनोकोलॉजिस्ट से मिलकर और जांच करवाकर अपनी शंका या वहम का निवारण कर सकते हैं | लक्षणों के आधार पर किसी नतीजे पर पहुंचना नहीं चाहिए क्योंकि implantation और पीरियड के कारण होने वाले लक्षण एक समान से होते हैं इसलिए डॉक्टर की राय हमेशा ले लेनी चाहिए|

लोगों की इतनी help की लेकिन youtube चैनल subscribe किसी ने नहीं किया अभी तक

 

loading...