गुदा (मलद्वार) का बाहर आना निकलना लटकना – (Rectal Prolapse) गुदा झुलना कारण और इलाज

0

गुदा का मलत्याग के समय मलद्वार के बाहर निकल जाना (Rectal prolapse) क्या होता है? guda bhransh in hindi  | kanch nikalna

गुदाभ्रंश या कांच निकलना के नाम से भी जाना जाता है जिसमें गुदा बाहर निकल कर झूलने लगती है और बाहर निकली हुई गुदा में सूजन और दर्द होता है| शुद्ध हिंदी में गुदाभ्रंश और मेडिकल भाषा की अंग्रेजी में रेक्टल प्रोलैप्स के नाम से जाने जाने वाली गुदा की समस्या जिसमें गुदा मल त्याग या लैट्रिन करते समय जोर लगाने के कारण बाहर की तरफ आ जाती है|  गुदा का बाहर आना या मलद्वार का बाहर निकलकर लटकना एक बहुत ही पीड़ादायक समस्या होती है| भारत में इस रोग को कांच निकलना या कांच आना जैसे सामान्य नामों से भी जाना जाता है| गुदा का बाहर आना या मलद्वार का बाहर लटकना और झूलना असल में आपकी बड़ी आंत का आखरी किनारा होता है जिसे हम रेक्टम कहते हैं और जब यह भाग गुदा से बाहर की तरफ लटकने लगता है तो इस रोग को रेक्टल प्रोलैप्स कहा जाता है या कांच निकलना हिंदी में बोल दिया जाता है|

guda bhransh kanch nikalna treatment hindi

गुदा का बाहर आना किसी को भी किसी भी उम्र में हो सकता है| अक्सर यह उन लोगों को अधिक होता है जिन को कब्ज और बवासीर की समस्या रहती है| बवासीर की स्थिति में गुदा का बाहर लटकना और मस्सों जैसा अहसास होना एक आम  लक्षण होता है | कांच निकलना या गुदा संबंधी रोग (गुदाभ्रंश)लगभग एक लाख में से 2000 लोगों को होता है| मल त्यागते समय गुदा का बाहर लटकना या आना की दर्दनाक यह पीड़ादायक समस्या 50 साल के ऊपर की महिलाओं को अधिक होती है और इसके पीछे का मुख्य कारण होता है गुदा की नसों का कमजोर होना और बवासीर या पाइल्स के कारण गुदा की नसों का सूजकर बाहर आना जिसमें आपकी गुदा का आखिरी किनारा सूजकर बाहर लटकने या झूलने लगता है|

loading...

गुदाभ्रंश या कांच निकलना या मलद्वार का बाहर आना या यूं कहें कि anus का बाहर निकलना या झूलना की समस्या छोटी और बड़ी दोनों प्रकार की हो सकती है अक्सर छोटी समस्या होने पर डॉक्टर आपको दवाइयां और लगाने की क्रीम देता है और आपको बवासीर के कारण यानी कब्ज को दूर की दवा दी जाती है जिससे आपको टट्टी यह मल त्यागते समय अधिक जोर ना लगाना पड़े| इसके इलावा यदि आपकी समस्या अधिक सीरियस है तो आपको डॉक्टर कांच निकलना के इलाज के लिए गुदा का ऑपरेशन या सर्जरी करवाने की भी सलाह दे सकता है|

kaanch nikalna in english क्या कहते है?

कांच निकलना को इंग्लिश में rectal ani या rectal prolapse कहा जाता है|

Loading...

गुदा का बाहर आना के लक्षण | symptoms of rectal prolapse in Hindi | मलद्वार का बाहर निकलना गुदा भ्रंश या कांच आना के संकेत

guda ka bahar aana ke lakshan

गुदाभ्रंश की समस्या यानी कांच का निकलना या गुदा बाहर निकलने का इलाज हिंदी में जाने से पहले मलद्वार बाहर झूलने के लक्षण जान लीजिए|

कांच निकलना की समस्या या गुदा संबंधी रोग एकदम से नहीं होता यह धीरे-धीरे होना शुरू होता है इसका पहला लक्षण यह होता है कि कांच निकलना रोग होने पर रोगी को मल त्यागते समय मलद्वार के बाहर मांस की गांठ के लटकने का एहसास होता है जैसे कि आप की गुदा में गेंद नुमा संरचना रखी हो और जरूरी नहीं कि आपको शुरू में दर्द होगा|

गुदाभ्रंश होने होने पर साधारण लोग अपने हाथ से गुदा की गांठ को अंदर धकेल देते हैं और यदि आप खुश नसीब है तो आपको कुछ ही दिनों में इस समस्या से निजात मिल जाती है और आपकी गुदा अपने स्थान पर दोबारा चली जाती है|

कांच निकलना का लक्षण यह भी हो सकता है कि आपकी गुदा का हिस्सा अंदर ना जाए और आपको चलने उठने-बैठने में परेशानी है दर्द हो|

यदि कांच निकलने का गुदा रोग बिगड़ जाए तो आपको मल त्याग के समय खून आने गुदा में सूजन मलद्वार में तेज दर्द आदि लक्षण महसूस हो सकते हैं|

इसके इलावा कांच निकलना यानी गुदा का बाहर आना समस्या में आपको मल रोकने में यह पेट की गैस को रोकने में समस्या हो सकती है|

कुछ लोगों में मलद्वार का बाहर निकलना उन लोगों में डर पैदा कर देता है जिसके कारण लैट्रिन करने से डरते हैं और उन्हें कब्ज की समस्या रहने लगती है और कुछ लोग कांच रोग होने पर अपने मल को रोक नहीं पाते|

गुदाभ्रंश के प्रकार | types of rectal prolapse | गुदा बाहर आना कितने प्रकार का हो सकता है

कांच निकलना / मलद्वार का बाहर निकलना 3 प्रकार का होता है| इसका प्रकार इस बात पर निर्भर करता है की आपकी गुदा कितनी बाहर आई है|

Internal prolapse

आंतरिक गुदाभ्रंश में बड़ी अंत का आखिरी भाग यानि गुदा बाहर नहीं निकली हुई होती बस आपको अन्दर की और फूलने का एहसास होता है|

Partial prolapse

आंशिक कांच निकलना में गुदा का थोडा सा भाग बाहर निकलता है|

Complete prolapse

इसमें पूरी गुदा बहार लटकने लगती है और यदि यह अन्दर न जाए तो इसका इलाज लेना होता है|

guda bhransh ke karan | guda bahar aana reasons | कांच निकलना क्यों होता है

गुदा भ्रंश के कारण गुदा या मलद्वार का बाहर आना या निकलना कई reasons से हो सकता है जैसे

मलद्वार का बाहर आना आपकी गुदा में पाई जाने वाली तंत्रिकाओं के कमजोर होने या तंत्रिकाओं को नुकसान पहुंचने के कारण हो सकता है| गुदा में पाई जाने वाली यह तंत्रिकाएं आपकी गुदा की मसल्स और गुदा को नियंत्रित करने का कार्य करती हैं इन तंत्रिकाओं को नुकसान पहुंचाना या कमजोर होने के पीछे निम्न कारण हो सकते हैं

प्रेगनेंसी में नार्मल डिलीवरी होने से

स्पाइनल कॉर्ड में चोट लगने से

गुदा में किसी प्रकार की चोट लगने से

उम्र बढ़ने के साथ गुदा की मांसपेशियों का कमजोर होना

बवासीर या किसी और रोग के लिए गुदा का ऑपरेशन या सर्जरी

पाइल्स की समस्या या कब्ज रहने से

जब आप को लंबे समय तक कब्ज रहती है तब आपको मल त्याग के लिए बार बार जोर लगाना पड़ता है जिससे कि रेक्टम की मांसपेशियां कमजोर होकर मलद्वार से बाहर निकलने लगती हैं और आपको कांच निकलना की प्रॉब्लम हो जाती है और यदि आप की कब्ज बनी रहती है तो आप को गुदा का बाहर आने की समस्या होने की पूरी संभावना रहती है|

बार बार गुदा भ्रंश होना या कांच निकलना उन लोगों को अधिक होता है जिनको कब्ज रहती है, बवासीर की समस्या होती है के अलावा शुगर के रोगी और उन लोगों को गुदा बाहर आने के problem होने की सम्भावना जयादा होती है जिन्हें cystic fibrosis, chronic obstructive pulmonary disease, परजीवी से इन्फेक्शन हो या जिनकी उम्र 50 साल से अधिक हो|

गुदाभ्रंश और बवासीर में अंतर | Rectal prolapse and hemorrhoids difference | क्या बवासीर और गुदा निकलना एक ही बात होती है

Guda ka bahara aana, nikalna ya kanch rog hindi me होना या बवासीर होना दोनों ही पीड़ादायक समस्याएं हैं| जिसमें रोगी को गुदा जैसी नाजुक जगह पर दर्द का सामना करना पड़ता है मलद्वार का बाहर निकलना और लटकना अक्सर बवासीर या पाइल्स होना समझ लिया जाता है| हो सकता है कि यह बवासीर का एक लक्षण हो और जैसा की हमने बताया कि गुदाभ्रंश के पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे तंत्रिकाओं की कमजोरी और कब्ज रहना लेकिन यह दोनों बातें अलग-अलग होती है|

जहां बवासीर या पाइल्स होने पर आप की गुदा की रक्त वाहिकाएं सूज जाती हैं और गुदा से बाहर दिखाई देने लगती हैं वही कांच निकलना की समस्या में गुदा  स्वयं ही बाहर निकल जाती है|

जरूरी नहीं कि गुदा में कांच निकलने पर आपको दर्द हो या गुदा से खून आए लेकिन बवासीर में अक्सर ऐसा होता है|

यदि आपको गुदाभ्रंश और बवासीर मैं अंतर का सही पता लगाना है तो अपनी डॉक्टरी जांच करवाएं जिससे कि यह साफ हो सके कि आपको गुदाभ्रंश की समस्या है या बवासीर की|

guda bhransh pehchan  in hindi | कैसे पता चलता है गुदा भ्रंश होने का | कांच आना की पहचान

गुदा भ्रंश या कांच निकलना या मलद्वार का गुदा के बाहर आना और बवासीर मैं क्या अंतर है और क्या आप की गुदा में गांठ जैसा कुछ महसूस हो रहा है तो इसके लिए आपको सबसे पहले अच्छे पेट के डॉक्टर से मिलना चाहिए|  डॉक्टर आपकी अच्छी तरह से जांच करेगा और जांच के आधार पर ही यह सुनिश्चित करेगा कि आपको किस कारण से guda ka bahar aana कि समस्या हो रही है| डॉक्टर आपको कोलोनोस्कोपी करवाने की भी सलाह दे सकता है जिससे डॉक्टर यह पता लगेगा कि आपकी गुदा के अंदर गांठ बनी है या नहीं| कुल मिलाकर आप को जांच अपने रेक्टम बाहर आने के रोग होने का सही कारण पता चल जाएगा|

treatment for guda bhransh | कांच की दावा medicine उपचार के उपाय | गुदा बाहर आना का इलाज | kanch ka ilaj hindi me

गुदा का बाहर आना यानी गुदाभ्रंश या कांच निकलने का इलाज आपको किसी अच्छे डॉक्टर से करवाना ही होता है| कई बार ऐसा होता है कि आपकी मलद्वार बाहर निकलिए झूल जाती है और आप हाथों से उसे अंदर कर देते हैं तो वह दोबारा बाहर नहीं आती|

लेकिन अधिकतर मामलों में गुदा भ्रंश की समस्या बढ़ती ही रहती है और समय बीतने के साथ साथ बड़ी होने लगती है जिसका आपको डॉक्टर से इलाज लेना होता है|

यदि आपको कांच निकलने की समस्या है तो आप को जितना जल्दी हो सके उसका इलाज करवा लेना चाहिए| जितना लेट आप इलाज करेंगे रेक्टल प्रोलैप्स का इलाज उतना ही जटिल और मुश्किल होता जाएगा यानी इसका इलाज बहुत लंबा चलेगा|

यदि आपकी रेक्टल प्रोलैप्स या गुदा भ्रंश की समस्या छोटी नहीं है तो डॉक्टर आपको गुदा के बाहर आना रोकने के लिए कोई क्रीम, दवा, टैबलेट या मेडिसिन दे सकता है जिससे आपको गुदा में दर्द सूजन के लक्षण नहीं होंगे और बार बार गुदा बाहर निकलने की समस्या भी दूर हो जाएगी|

यदि कांच निकलने की समस्या बड़ी है तो इसके लिए आपको डॉक्टर गुदाभ्रंश की सर्जरी ऑपरेशन करने की सलाह भी दे सकता है|

सर्जरी में या तो गुदा के बाहर निकले हुए अतिरिक्त भाग को काट कर निकाल दिया जाता है या रेक्टम को अपने स्थान पर फिर से सेट कर दिया जाता है|

इसलिए गुदाभ्रंश या कांच निकलने की दवा या मेडिसिन के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए इसके अलावा गुदाभ्रंश के ट्रीटमेंट के दूसरे ऑप्शन क्या हो सकते हैं पता लगाने के लिए आपको डॉक्टरी सलाह जांच और इलाज लेने की सलाह दी जाती है|

maldwar ka bahar aana की सर्जरी या ऑपरेशन के बाद डाइट और ठीक होने में लगने वाला समय

गुदा भ्रंश ट्रीटमेंट यानि सर्जरी या कांच निकलने का ऑपरेशन होने के बाद रोगी को खास ख्याल रखने की हिदायत दी जाती है| रेक्टल प्रोलैप्स सर्जरी के बाद आपको खाने पीने का विशेष ध्यान रखना होता है आप को क्या खाना चाहिए क्या नहीं के बारे में आप अपने डॉक्टर से डाइट चार्ट बनवा सकते हैं|

अक्सर गुदाभ्रंश की सर्जरी के बाद रोगी को लिक्विड डाइट और जल्दी पचने वाले सॉफ्ट खाद्य पदार्थ खाने पीने की सलाह दी जाती है |

गुदा के बाहर आने के लटकने का इलाज यानी ऑपरेशन के बाद आपको डॉक्टर मल को सॉफ्ट रखने की दवा या मेडिसिन भी देता है जिससे आपको कब्ज की समस्या ना हो और आपकी गुदा पर जोर ना पड़े|

गुदा की सर्जरी होने के बाद हमें ठीक होने में कितना समय लगता है यह बात उस बात पर निर्भर करती है कि आपने इलाज कितनी जल्दी करवाया है| यदि आपने अपनी समस्या का इलाज लेट करवाया है तो रिकवरी का समय भी अधिक होगा आमतौर पर ऐसी सर्जरी के बाद रोगी को पूर्ण रुप से स्वस्थ होने में डेढ़ से 2 महीने लग जाते हैं|

एक बात और जितना जल्दी आप रेक्टल प्रोलैप्स का इलाज करवाएंगे उतना ही कम समय आपको रिकवरी में लगेगा यानी फिर से ठीक होने में लगेगा| इसलिए ऐसी स्थिति होने पर आपको तुरंत इलाज के बारे में सोचना चाहिए|

कांच निकलना से बचाव के उपाय | गुदा भ्रंश से बचने के तरीके | कांच निकलना कैसे रोकें

maldwar ka bahar aana या guda bahar ana का बचाव ही इस पीड़ादायक समस्या रेक्टल प्रोलैप्स से बचने का सही तरीका होता है| आप गुदाभ्रंश या मलद्वार का बाहर निकलना की प्रॉब्लम को अच्छा खानपान और जीवनशैली की अच्छी आदतें अपनाकर दूर रख सकते हैं खासकर वह लोग जिनकी गुदा बार-बार बाहर आती है इसके लिए आप निम्न उपाय कर सकते हैं|

फाइबर युक्त सेवन करें और भरपूर मात्रा में पानी पीजिए जिससे आपको बार-बार कब्ज रहने की समस्या ना हो|

मैदा युक्त भोजन, fatty फूड, फास्ट फूड, ऑयली फूड खाने से परहेज करें ऐसे खाद्य पदार्थ कब्ज और पेट की दूसरी बीमारियों के लिए जिम्मेदार माने जाते हैं|

शराब चाय-कॉफी आदि का सेवन कभी न करें| इनके स्थान पर फल सब्जियों का जूस पीजिये और सलाद के रूप में उनका सेवन करिए जिनसे आपको फाइबर और पोषण मिले|

रोजाना एक्सरसाइज करने से आप कब्ज और पेट की कई बीमारियां दूर रख सकते हैं जिसमें गुदाभ्रंश भी शामिल है|

मानसिक तनाव होने पर कब्ज और बवासीर की समस्या होना आम बात है इसलिए ध्यान योगा के द्वारा मानसिक तनाव से छुटकारा पाने की कोशिश कीजिए|

गुदा में बार-बार उंगली डालने या खुजली करने की आदत से परहेज करिए| ऐसा करने से गुदा में घाव हो सकते हैं और गुदा की मसल्स भी weak हो सकती है जिससे कांच निकलने की समस्या पैदा हो सकती है|

गुदा-भ्रंश का घरेलु उपचार और इलाज के उपाय | rectal prolapse gharelu nuskhe ilaj ke tarike | गुदा का बाहर आना का आयुर्वेदिक देसी उपचार

गुदाभ्रंश यह कांच निकलना का देसी आयुर्वेदिक उपचार करने के लिए बहुत से घरेलू नुस्खे और इलाज के तरीके अपनाए जाते हैं| इनमें से कुछ के बारे में हम आपको जानकारी देने जा रहे हैं| यह आयुर्वेदिक घरेलु और देसी नुस्खे आपकी गुदाभ्रंश की समस्या को जड़ से दूर और खत्म करेंगे साथ ही आप की गुदा की मसल्स या नसों का ढीलापन और कमजोरी दूर करके आपकी गुदा की मसल्स को बल प्रदान करेंगे जिससे रेक्टम का बाहर लटकना या आना यानी रेक्टल प्रोलैप्स या गुदा बाहर आने की समस्या आपको दोबारा नहीं हो पाएगी|

  • अनार के 100 ग्राम पत्तों को 1 लीटर पानी के साथ उबालिए इस पानी को छानकर मल त्यागने के बाद अपने गुदा को धोने के लिए प्रयोग में लाए| ऐसा कुछ दिनों तक करने पर आपकी गुदाद्वार की नसें मजबूत बनेगी और गुदा लटकने की समस्या से आप को मुक्ति मिलेगी|
  • यदि छोटे बच्चों में गुदा बाहर निकलने की समस्या हो रही है तो आपको कमल के पत्तों का चूर्ण समान मात्रा में मिश्री के साथ मिलाकर बच्चे को दिन में दो या तीन बार देना चाहिए यह बच्चों के मलद्वार को बाहर आने से रोकने का अचूक देसी उपचार है|
  • अमरूद के पत्तों की पेस्ट गुदाद्वार पर लगाने से भी गुदाभ्रंश रोग में सहायता मिलती है| यदि आपके घर में अमरूद का पौधा है तो आप इस इलाज को अपनाकर गुदाभ्रंश की समस्या से मुक्ति पा सकते हैं|
  • फिटकरी गुदा भ्रंश के लिए एक रामबाण औषधि मानी जाती है| 1ग्राम फिटकरी के पाउडर को 30 ग्राम जल में घोलकर गुदा द्वार पर यदि आप दिन में दो बार लगाते हैं तो इससे गुदा बाहर आने का अचूक ट्रीटमेंट हो जाता है और गुदा की नसों को बल मिलता है जिससे उनका लटकना कम हो जाता है|
  • बबूल की छाल के 10 ग्राम को आधा लीटर पानी में उबालकर छान लीजिए इस पानी से अपने गुदा को धोने के लिए इस्तेमाल करें ऐसा रोजाना करने पर कांच निकलना बंद हो जाएगा और आपको कांच निकलना या गुदा बाहर आना के लक्षणों से छुटकारा मिलेगा|
  • पपीते के पत्तों की पेस्ट बाहर निकली हुई गुदा पर लगाने से गुदा आसानी से अंदर चली जाती है और आपको कांच निकलने की समस्या से मुक्ति मिलती है|
  • अरंडी का तेल गुदा पर लगाने से गुदाभ्रंश का देसी ट्रीटमेंट हो जाता है आप अरंडी के तेल के आधे चम्मच को एक गिलास दूध में घोलकर रोजाना पीएं कब्ज के कारण होने वाला गुदाभ्रंश ना हो पाए|
  • हरड़ के 2 ग्राम चूर्ण को मैं दो बार पानी के साथ पीना निकलने का अचूक रामबाण इलाज माना जाता है यह खुदा की कमजोर नसों को मजबूत करता है और उनके ढीलेपन को दूर करता है|
  • माजूफल त्वचा और नसों को मजबूत बनाने के लिए एक रामबाण देसी उपचार माना चाहता है| माजू फल का पाउडर गुदा पर लगाने से कांच निकलने का रामबाण इलाज और उपचार हो जाता है और आपकी गुदा की नसों का ढीलापन दूर होता है |
  • माजूफल के पानी का इस्तेमाल anus धोने के लिए करने से आपकी रेक्टम की मांसपेशियां बलशाली बनती है कुल मिलाकर माजूफल को गुदाभ्रंश को जड़ से ख़तम करने और रेक्टम prolapse को मिटाने की एक अचूक आयुर्वेदिक रामबाण औषधि और आयुर्वेदिक घरेलु इलाज माना जाता है|
  • बच्चों में मल त्याग करते समय मलद्वार का बाहर निकलना रोकने के लिए बच्चे को आप सुबह शाम प्याज का रस पिलाएं इससे आराम मिलेगा और गुदा बाहर आना बंद हो जायेगा|
  • कुटकी के एक ग्राम चूर्ण को शहद के साथ चाटने से कांच निकलना का रामबाण उपचार या इलाज हो जाता है| इसे घरेलु नुस्खे से आपकी आँतों को बल मिलता है और उनका ढीलापन दूर होता है फलसवरूप आपको कांच निकलने की समस्या नहीं होती|
  • तिल का तेल गुदा पर लगाने से भी आपको कांच निकलना की समस्या से राहत मिलती है और आपकी गुदा का बाहर आना बंद हो जाता है|
  • गुदा द्वार को त्रिफला के पानी से धोने पर भी prolapse ani की समस्या नष्ट हो जाती है|

आपने आज गुदा का बाहर आना यानि मलद्वार का बाहर निकलना या गुदाभ्रंश की समस्या के बारे में जानकारी ली| दोस्तों, यदि आपको कांच निकलने की परेशानी बार बार होती है तो डॉक्टर से उसका सही इलाज करवाएं और rectal prolapse से बचाव के तरीके और उपाय अपनाएं खासकर जब ये समस्या आपको बार बार परेशान कर रही है| यदि आपकी समस्या अधिक बड़ी नहीं है तो आप गुदा भ्रंश के ट्रीटमेंट के लिए घरेलु नुस्खे उपाय और तरीके अपना सकते हैं जो हमने आपको बताये हैं| rectal prolapse या कांच निकलना के इलाज के आप्शन, दवा, medicine और खान पान में परहेज सम्बन्धी अधिक जानकारी के लिए किसी अच्छे वैध या पेट के डॉक्टर (gastrologist) से संपर्क करें|

Check Out Our Brand New English Website

kitchenhomeremedies.com

loading...

LEAVE A REPLY