प्रेगनेंसी में पेट के निचे दर्द और योनी में दर्द के साथ दबाव पड़ने का कारण और इलाज

0

गर्भावस्था में योनी में दर्द और दबाव पड़ना या पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना

प्रेगनेंसी अपने साथ कई प्रकार की मुसीबतें लेकर आती है जिसमें से एक है बच्चे के बढ़ते आकार के कारण गर्भवती स्त्री की योनि में दर्द रहना या योनि की हड्डी में दर्द महसूस होना| इसके साथ कुछ महिलाओं को पेट के निचले हिस्से में दर्द और दबाव जैसे लक्षण महसूस होते हैं | ऐसे जरूरी नहीं की है लक्षण प्रेगनेंसी के आखिरी महीनों में देखने मिले कुछ महिलाओं में योनि में दर्द और पेट के निचले हिस्से में दबाव पढ़ना गर्भावस्था के पहले और दूसरे तिमाही में ही शुरू हो जाता है | प्रेगनेंसी में गुप्तांग और पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना का सही कारण पता लगाना बहुत मुश्किल होता है लेकिन प्रेगनेंसी के दौरान ऐसा होना एक सामान्य बात है|

garbhavastha me yoni par pressure padna

loading...

चलिए जानते हैं कि गर्भावस्था में गुप्तांग और पेट के निचले हिस्से में दर्द और दबाव किस कारण से होता है| प्रेगनेंसी में प्राइवेट पार्ट में होने वाले दर्द का इलाज क्या है और कब डॉक्टर से जरूर मिलना चाहिए के बारे में जानकारी|

See also  प्रेगनेंसी में सांस फूलना – क्या करें और क्या नहीं?

प्रेगनेंसी में पेट और प्राइवेट पार्ट में दबाव और दर्द रहने के कारण | Causes of vaginal and pelvic pressure in Hindi

देखिए यदि आप प्रेग्नेंट है तो आपके लिए प्राइवेट पार्ट य पेट के निचले हिस्से में पढ़ने वाले दबाव या होने वाले दर्द के सही कारण का पता लगाना बहुत मुश्किल होगा| लेकिन ऐसा माना जाता है कि प्रेगनेंसी के दूसरे और तीसरे तिमाही में दर्द और दबाव पड़ने का कारण होते बच्चे के आकार और वजन का बढ़ना| जैसे-जैसे आप का बच्चा आकर और वजन में बढ़ता जाता है तो उसके बढ़ते हुए वजन के कारण आपको पेट के निचले हिस्से में, गुदा में या योनि में दर्द या दबाव का एहसास होता रहता है|

गर्भावस्था में प्राइवेट पार्ट पर होने वाले दर्द या पेट के निचले हिस्से में पढ़ने वाला वाला pressure प्रेगनेंसी के आखिरी महीनों में बनने वाले हार्मोन relaxin के कारण भी होता है| कुछ महिलाओं को गर्भावस्था में योनि की हड्डी में दबाव या दर्द रहता है इसके साथ कुछ महिलाओं को टांगो में कंपन जैसे लक्षण भी महसूस हो सकते हैं|

प्रेगनेंसी में योनि और पेट के निचले हिस्से में दर्द और दबाव का प्रभाव कब अधिक होता है

प्रेगनेंसी का असर आपके जोड़ों, मांसपेशियों और हड्डियों पर पड़ता है| गर्भावस्था में प्राइवेट पार्ट और पेट के निचले हिस्से में होने वाला दर्द और पढ़ने वाला प्रेशर डिलीवरी होने तक आप को झेलना पड़ता है| यह दर्द और दबाव तब अधिक हो जाता है जब डिलीवरी का समय नजदीक होता है|

योनि में दर्द और पेट के निचले हिस्से में दबाव चलने, सीढ़ियां चढ़ने पर या  सफर आदि के दौरान अधिक महसूस होता है |

See also  Garbhpat ke Upay - Anchahe Garbh se Mukti pane ki Vidhi?

गर्भावस्था की शुरुआत में प्राइवेट पार्ट में दर्द और पेट के निचले हिस्से में दबाव या दर्द रहना

यदि आपको प्रेगनेंसी की शुरुआत में यानी पहली तिमाही में योनि में दर्द एयर पेट के नीचे दबाव महसूस होता है तो इसके कई कारण हो सकते हैं|

गर्भावस्था की शुरुआत में पेट में दर्द रहना या मरोड़ उठना गर्भाशय के फैलने के कारण हो सकता है| यदि आपके पेट में मरोड़ उठने के साथ में ब्लीडिंग हो रही है तो यह मिसकैरेज का संकेत भी हो सकता है|

प्रेगनेंसी में कभ की समस्या रहना भी आपको पेट में दर्द दे सकता है| प्रेगनेंसी के दौरान हार्मोन में बदलाव के अलावा आईरन सप्लीमेंट का इस्तेमाल आपके पाचन तंत्र को बुरी तरह से प्रभावित कर सकता है जिसके कारण आपको पेट में दर्द या दबाव की समस्या झेलनी पड़ सकती है|

यदि आपको प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या रह रही है तो जितना हो सके अपनी डाइट में फाइबर युक्त पौष्टिक चीजों का सेवन करें| इसके अलावा पर्याप्त मात्रा में पानी पिए ताकि आप की कब्ज की समस्या दूर हो सके|

Pregnancy में योनी और पेट के निचले हिस्से में होने वाले दर्द और दबाव को दूर करने का इलाज और उपाय 

यदि प्रेग्नेंसी में आपको योनि में दर्द या पेट के निचले हिस्से में लगातार दर्द और दबाव महसूस होता है तो निम्न उपाय अपनाकर आप अपना इलाज कर सकते हैं|

योनि का पेट में दर्द से निजात पाने के लिए आपको कुछ देर के लिए नीचे लेट जाना चाहिए और अपनी सांसो को कंट्रोल में करने की कोशिश करनी चाहिए| जितना हो सके अपने आप को मानसिक तनाव से मुक्त रखने की कोशिश करनी चाहिए इसके अलावा आप निम्न उपाय भी अपना सकते हैं|

डॉक्टर से पूछ कर नियमित रूप से पेल्विक एक्सरसाइज का अभ्यास करें|

See also  प्रेगनेंसी में स्तन (ब्रैस्ट) में से पानी दूध निकलना – गर्भावस्था में डिलीवरी से पहले चेस्ट से दूध आना

हल्के गर्म पानी से स्नान करने से भी आपको लाभ मिलेगा|

आपको प्रेगनेंसी में पहने जाने वाले कपड़े ही पहनने चाहिए| ऐसे कपड़े आपके पेट और कमर को सहारा देने तक काम करते हैं जिससे आपको दर्द और दबाव की समस्या कम हो पाती है|

किसी जानकार यह licensed थैरेपिस्ट से मसाज करवाना भी फायदेमंद साबित होता है|

जितना हो सके आप आराम कीजिए और आराम करते समय अपने पैरों के नीचे दो तकिया रख ले ताकि आपके पैर आपके शरीर से थोड़ा ऊपर रह सकें|

योनि में दर्द या पेट में दबाव या दर्द होने की स्थिति में भारी-भरकम एक्सरसाइज करने से परहेज रखें| एक्सरसाइज करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य ले ले | प्रेगनेंसी में एक्सरसाइज करना अच्छी बात है लेकिन जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज से नुकसान भी हो सकता है| इसलिए गर्भावस्था के दौरान हल्की-फुल्की एक्सरसाइज ही करें|

गर्भावस्था में योनि में दर्द और पेट में दबाव पड़ने पर आपको कब डॉक्टर से मिलना चाहिए

आपको प्रेगनेंसी में डॉक्टर से तब जरूर मिलना चाहिए यदि आपको निम्न लक्षण दिखाई देते हैं|

पेट के निचले हिस्से में बहुत तेज दर्द होना|

योनि में तेज दर्द होना जिसके कारण चलना दूभर हो जाना|

तेज सर दर्द|

चक्कर आना|

हाथ पांव या चेहरे में सूजन आ जाना|

बुखार के साथ ठंड लगना|

प्राइवेट पार्ट से ब्लीडिंग चालू हो जाना|

ये लक्षण प्रेगनेंसी में इग्नोर नहीं करने चाहिए क्योंकि ऐसे लक्षण miscarriage, ectopic pregnancy या preterm labor के कारण हो सकते हैं| इसके अलावा कुछ कारण ऐसे भी हो सकते हैं जो बहुत अधिक गंभीर हो| इसलिए सही समय पर डॉक्टर से जांच और इलाज पाना ही समझदारी होगी|

लोगों की इतनी help की लेकिन हमारी नयी वेबसाइट like नहीं की अभी तक 😥

loading...