kis disha mein padhna chahiye – Best study direction for students for success and better focus

1

आजके प्रतिस्प्रधा के दौर में कौन सफलता और अच्छे नंबर नहीं पाना चाहता| हर माँ बाप का सपना होता है की वो हर जगह टॉप करे और हर पढने वाले स्टूडेंट का यह सपना होता है की वो अपनी माँ बाप की उमीदों पर खरा उतरे और अपने माँ बाप का नाम रोशन करे साथ ही समाज में एक बेहतर पोजीशन पाएं | अक्सर जागरूक स्टूडेंट्स उन उपायों और टोटकों की तलाश में रहते हैं जिनसे उनके फोकस, परफॉरमेंस और study स्किल्स में निखार आये और वो आने वाली हर परिक्षण में सफलता हासिल कर सकें| आप किस दिशा में पढाई करते हैं इसका असर आपकी कार्य कुशलता और पढाई पर पड़ता है ऐसा वास्तु और फेंग शुई का मानना है| जहाँ सही दिशा आपकी सेहत, मानसिक क्षमता और बौधिक शक्ति को बढाती है वही गलत दिशा में पढने से आपकी एकाग्रता और सफलता के chance कम होते हैं| आइये जानते हैं की कौनसी दिशा में स्टडी करने से आपको सफलता मिलने के चांसेस बढ़ते हैं|

which study direction is best

फेंग शुई के हिसाब से कोंसी दिशा पढ़िये के लिए उत्तम मानी आती है?

chinese लोग मानते हैं अब फंग शुई का सही इस्तेमाल किया जाता है तब यह आपके लिए अच्छी सेहत और भाग्य लेकर आती है| फेंग शुई कला बताती है की आपको किस तरह से सकारात्मक उर्जा का इस्तेमाल करना चाहिए ताकि आपका भाग्य, मानसिक विकास और सेहत में सुधार हो| यहाँ कुछ टिप्स दिए गए हैं ओ की आपकी सलफता और भाग्य को चमकाने में मदद करेंगे|

loading...

फेंग शुई में यह धेयाँ रखा जाता है की आप वो सब रूम के लिए करें इससे आप में सकारात्मक यानि पॉजिटिव एनर्जी का संचार हो| पहले तो अपने स्टडी रूम को एक दम साफ़ रखें क्योंकि गंदे रूम में concentration ख़राब होती है| वही साफ़ सुथरा और सही ढंग से रखा गया रूम पॉजिटिव उर्जा को बढ़ता है जिसके फलसवरूप आपका कॉन्फिडेंस, पढाई करने में मन और एकाग्रता बढती है|

जब बात कौनसी दिशा में पढ़ाई की आती है तो फेंग शुई के अनुसार पूर्व , उत्तर और पूर्वोतर दिशा सबसे अच्छी होती है क्योंकि यह दिशायें सकारात्मक उर्जा से भरपूर होती हैं|

फेंग शुई के अनुसार स्टूडेंट को हमेशा पूर्व (east)  या उत्तर (north) दिशा में अपना मुख करके भी बेठना चाहिए इस दिशा में उनकी concentration बढ़ेगी और सफलता के अवसर भी| कभी भी आपको उत्तर-पश्चिम दिशा में नहीं बैठना है क्योंकि इस दिशा में नेगेटिव उर्जा जयादा होती है ओ की स्टूडेंट को जल्दी  थका देती है जिनसे उनकी concentration बिगडती है|

See also  हमेशा घुटन, depression, कॉन्फिडेंस की कमी होने पर क्या करना चाहिए? जब घर वाले (पेरेंट्स) बात नहीं समझते या साथ नहीं देते

अओका स्टडी टेबल हमेशा दक्षिण पूर्व दिशा में होना चाहिए और उसकी स्तिथि इस प्रकार होनी चाहिए की खिड़की से प्रकास लेफ्ट दिशा से आये| खिड़की पर कैक्टस, बांस का पौधा और विंड चिम लगने पर बुरी उर्जा आपसे दूर रहती है|

आपकी पीठ कभी भी दरवाजे की तरफ नहीं होनी चाहिए| फेंग शुई कहती है की स्टूडेंट की कुर्सी के पीछे दिवार पर बहते हुए जल की फोटो लगाना काफी फलदाई होता है|

स्टडी रूम का रंग नीला, हरा , सफ़ेद या क्रीम होना चाहिए और कमरे में प्रकाश की अच्छी व्यवस्था होनी चाहिए|

वास्तु के अनुसार कौनसी दिशा स्टूडेंट्स के लिए सबसे अच्छी होती है?

वास्तु शाश्त्र हमारे भारत की एक प्राचीन विद्या है जो की आपके लिए काफी लाभप्रद सिद्ध हो सकती है बस आपको छोटी छोटी बातों का ध्यान रखना है जिससे आपकी उर्जा और concentration बढ़ेगी इसके फलसवरूप आपका पढाई में मन लगेगा, आपकी स्मरण शक्ति, और समझने की शक्ति का विकास होगा जो की आपको आने वाली हर परीक्षा, एंट्रेंस एग्जाम और कम्पटीशन में सफलता दिलाने में मदद करेंगे|

वास्तु के अनुसार छात्र या छात्रा को हमेशा पूर्व या उत्तर दिशा में मुंह करके ही पढने बैठना चाहिए| और यदि आपका लक्ष्य करियर बनाने, एंट्रेंस एग्जाम और किसी competition में सफलता पाना का हो तो आपको हमेशा उत्तर दिशा में मुख करके पढना चाहिए|

आपकी स्टडी टेबल हमेशा चकौर या आयताकार होनी चाहिए और गोल, अंडाकार टेबल से परहेज करना चाहिए| टेबल हमेशा साफ़ सुथरी रहनी चाहिए और विशेष रूप से लकड़ी की बनी होनी चाहिए इस पर कांच न लगा हो| इसी प्रकार वास्तु कहता है की टेबल स्टूडेंट के लिए एक पाक जगह है इसलिए टेबल के नीचे जूते नहीं होने चाहिए|

See also  हमेशा घुटन, depression, कॉन्फिडेंस की कमी होने पर क्या करना चाहिए? जब घर वाले (पेरेंट्स) बात नहीं समझते या साथ नहीं देते

स्टडी टेबल और दिवार के बीच २-४ फीट की दूरी बना कर रखें ताकि उर्जा का प्रवाह सही ढंग  से हो और आपको पढाई के समय घुटन या बेचैनी न हो|

आपने स्टडी रूम की उत्तर पूर्व दिशा में एक छोटा सा मंदिर रखिये और रोजाना कुछ देर पूजा करें और दिन में कुछ बार गायत्री मंत्र का उच्चारण करें जिससे आपका मनोबल और अताम्विश्वास बढेगा|

स्टडी टेबल बीम के नीचे नहीं होना चाहिए और आपके बैठने की स्तिथि इस प्रकार हो की दरवाजा आपकी पीठ की और ना हो|

स्टडी रूम की खिड़की की दिशा उत्तर या पूर्व में होनी चाहिए साथ ही पश्चिम और दक्षिण दिशा वाली खिड़कियाँ बंद रखने की सलाह दी आती है|

अपने स्टडी टेबल की सामने की दिवार पर ऐसी फोटो लगायें इनसे आपको inspiration मिल सके|

आवश्कता के आधार पर दिशा का निर्धारण

वास्तु शास्त्र के अनुसार

maths और science वालों को पूर्व दिशा में पढना चाहिए

यदि आप business man, नेता या logic बनाने वाले हैं तो आपके लिए दक्षिण दिशा सही होगी

इसी प्रकार धार्मिक कार्य करने वालों के लिए पश्चिम दिशा उत्तम होती है

स्कूल जाने वाले स्टूडेंट्स के लिए वास्तु

वास्तु के अनुसार यदि आपका बेटा या बेटी स्कूल में पढ़ते हैं तो

उत्तर पूर्व दिशा में उन्हें नए आईडिया आयेंगे जिनके फलसवरूप उनकी पढाई अच्छी होगी और उनके ग्रेड भी अच्छे आयेंगे | इसी प्रकार दक्षिण और दक्षिण – पश्चिम दिशा में उनकी परफॉरमेंस घटेगी और उनके लो ग्रेड आयेंगे|

तो हमारे देश की स्टूडेंट्स आपने अभी फेंग शुई और वास्तु के हिसाब से जाना की कौनसी दिशा में पढने से आपको सफलता मिलेगी और कौनसी दिशा आपके लिए ख़राब है | यदि आपको कोई confusion है तो हमसे पूछिए हम आपको बिलकुल सटीक राय देंगे|

See also  हमेशा घुटन, depression, कॉन्फिडेंस की कमी होने पर क्या करना चाहिए? जब घर वाले (पेरेंट्स) बात नहीं समझते या साथ नहीं देते

सबसे जरुरी – आपको इन बातों का ध्यान रखना है साथ ही अपनी पढाई में भी मन लगाना है खेल कूद मौज मस्ती के लिए पूरा जीवन पड़ा है आज के समाज में उगते सूरज को सलाम मिलता है और नाकाम को कोई नहीं पूछता इसलिए दोस्तों आज से ही मोबाइल और कंप्यूटर से दूरी बना कर अपनी स्टडीज में मन लगाओ इससे आपके और आपके माता पीता के सपने पूरे हो सकें और समाज में आपका नाम हो|

लोगों की इतनी help की लेकिन youtube चैनल subscribe किसी ने नहीं किया अभी तक


 

loading...