मूत्राशय में पथरी दर्द और जलन का इलाज

0

मूत्राशय की पथरी होना काफी साधारण सी बात है लेकिन यह अपने असहनीय दर्द और जलन के कारण जानी जाती है| मूत्राशय की पथरी यानि bladder stone महिलाओं की तुलना में पुरषों में जयादा देखने को मिलती है और ऐसा माना जाता है की इस पथरी के मरीजों में करीब 95 प्रतिशत पुरुष ही होते हैं| मूत्राशय के पथरी मूत्राशय में मिनरल्स के क्रिस्टलीकरण होने के कारण बनती है और यह तब बनती है जब पेशाब में पानी की कमी हो और ज्यादा मात्र में मिनरल्स और दुसरे अपशिष्ट पदार्थ जैसे की प्रोटीन मौजूद हों| दुसरे प्रकार की पथरियों की अपेक्षा मूत्राशय की पथरी का इलाज सबसे सरल और सफल माना जाता है|

bladder stone

इस पथरी का बनना शरीर में लम्बे समय से हुई पानी की कमी या फिर पूरी तरह से पेशाब बाहर निकलने में असमर्थता के कारण हो सकता है| इसके अलावा इस पथरी के और बहुत से कारण हो सकते हैं जैसे निर्जलीकरण, bladder की समस्या, इन्फेक्शन, प्रोस्टेट का बढ़ना आदि| यदि समय पर मूत्राशय पथरी का इलाज न किया जाए तो या इन्फेक्शन और दूसरी गंभीर सम्सयाएं पैदा कर सकती है|

मूत्राशय की पथरी के लक्षण | Symptoms of bladder stone

loading...

इस पथरी के निम्न लक्ष्ण होते हैं

  • बार बार पेशाब आना और ऐसा अक्सर रात में होता है
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द और जलन
  • मूत्र करते समय लिंग में तेज जलन और दर्द होना
  • पेशाब के साथ खून का आना
  • पेशाब रोकने में परेशानी होना
  • लिंग और उसके ऊपर की साइड में कुछ अटका हुआ महसूस होना

मूत्राशय की पथरी होने की किसे जयादा सम्भावना होती है ?

  • वृद्ध लोगों में जो जिन्हें प्रोस्टेट की शिकायत हो|
  • जिन लोगों की उम्र 80 साल से ज्यादा हो|
  • वो पुरुष जो ज्यादा जंक food और फ़ास्ट food खाते हों|
  • जो लोग पानी का कम सेवन करते हों|
  • जिनकी डाइट में पोषण की कमी हो|

मूत्राशय में पथरी होने के कारण क्या हैं | causes of bladder stone

मूत्राशय की पथरी होने के पीछे पथरी होने ही मुख्य कारण नहीं होता बल्कि और दुसरे कारणों के कारण भी मूत्राशय में पथरी बन सकती है जैसे

UTI या मूत्राशय में इन्फेक्शन होने से

मूत्राशय की पथरी होने के पीछे बड़ा कारण होता है मूत्र मार्ग में इन्फेक्शन जो की मुख्य रूप से जीवाणुओं द्वारा होता है| वैसे पुरषों में महिलाओं से कम इन्फेक्शन की सम्भावना रहती है इसका कारण है महिलाओं के मूत्रमार्ग का छोटा होना|

मूत्रनली को हुआ नुक्सान

मूत्र नाली को नुक्सान किसी चोट, बिमारी या रोग के कारण हो सकता है जिसके कारण मूत्र के सही निकास में बाधा आती है परिणाम स्वरूप पथरी का निर्माण होता है|

प्रोस्टेट का बढ़ना

प्रोस्टेट के बढ़ जाने से मूत्र के निकास में रूकावट आती है जिससे मूत्र आपके शरीर से पूरी तरह बहार नहीं निकल पाता और बचा हुआ मूत्र और अपशिष्ट पदार्थ पथरी की समस्या पैदा करते हैं|

Neurogenic Bladder

neurogenic bladder एक तंत्रिका से जुडी समस्या है जिसमें किसी आघात या बिमारी के कारण आपके दिमाग से आने वाले सिग्नल आपके मूत्राशय तक नहीं पहुँच पाते जिसके फलसवरूप आपका मूत्राशय खाली नहीं हो पाता जिसके परिणाम सवरूप मूत्राशय की पथरी का निर्माण होने लगता है|

मूत्राशय का कमजोर होना

मूत्राशय की दीवारें कमजोर होने से उनमें थैलिनुमा उभार बन जाते हैं जिनमें मूत्र एकत्रित होने से पथरी का निर्माण होने लगता है|

पथरी की समस्या

गुर्दे में पथरी की समस्या होने पर भी मूत्राशय में पथरी होने की सम्भावना रहती है|

मूत्राशय की पथरी की पहचान | इलाज और उपचार

यदि आपको ऊपर मूत्राशय में पथरी होने के लक्षण महसूस हो रहे हैं तो आपको तुरंत किसी अच्छे urologist से मिलना चाहिए| डॉक्टर आपकी जांच करेगा और जरुरत पड़ने पर टेस्ट जैसे urinalysis, CT स्कैन, अल्ट्रासाउंड, x-ray आदि करवाने की सलाह भी दे सकता है| यदि टेस्ट में पथरी पायी जाती है तो सबसे पहले डॉक्टर आपको जरुरी दवाइयां लिखेगा इसके अलावा आपकी स्तिथि के अनुसार आपको जरुरी इलाज जैसे लेज़र ट्रीटमेंट आदि के द्वारा आपकी पथरी को छोटे छोटे टुकड़ों में तोड़ेगा जिससे की वह मूत्र के साथ शरीर से बहार हो जायेगे| यदि आपकी पथरी का आकर बड़ा हो या वह लेज़र के द्वारा न टूटे तो डॉक्टर आपको सर्जरी करवाने की सलाह भी दे सकता है|

मूत्राशय की पर्ह्त्री का घरेलु इलाज और बचाव के तरीके | home treatment and prevention tips

ध्यान रहे की आपको कभी भी डॉक्टर का इलाज नहीं छोड़ना है और घरेलु इलाज तब अपनाना है जब आपका डाक्टरी इलाज भी चल रहा हो| घरेलु इलाज के द्वारा आप शरीर से पथरी को जल्दी बहार निकाल सकते हैं| साथ ही इलाज के बाद आपको जरुरी सावधानियां भी बरतनी हैं जिनके बारे में हम आपनो नीचे बताने जा रहे हैं|

  1. आप जानते हैं की ये पथरी ख़राब खान पान से फैलती है इसलिए डाइट हलकी फुलकी, सुपाच्य और पोषण से भरपूर होनी चाहिए
  2. शरीर में कभी भी पानी की कमी न होने दें और प्रयास करें की पूरे दिन समय समय पर आप जल, नारियल पानी, जूस आदि का सेवन करके अपने शरीर पानी से तारो ताजा रखें| इसके अलावा शराब, सोडा , चाय, कॉफ़ी का सेवन बिलकुल बंद करें|
  3. मूत्राशय की पथरी के घरेलु उपचार की बात आती है तो जानकारों के अनुसार रोगी को कुछ दिनों तक निम्बू पानी और संतरे का जूस अधिक पीना चाहिए इससे पथरी टूट कर बहार निकलने में मदद मिलती है|
  4. रोगी को रोजाना सुभे टेहेलना चाहिए और दो हफ़्तों में एक बार उपवास करना चाहिए| इसके अलावा खाने में दही, सब्जी, सलाद आदि का भरपूर सेवन करना चाहिए|
  5. मूत्राशय की पथरी के लक्षणों को दूर करने का एक रामबाण इलाज है की आप १० ml अनानास के जूस में, १० ग्राम मिश्री का चूर्ण और १० ग्राम गुलाब जल डाल कर रात में रख दें और सुबह उठकर इसे पी लें| ये ठंडे आपको जलन और दर्द से निजात दिलवाएगी|
  6. प्याज का रस रोजाना पीने से भी पथरी जल्दी शरीर से बहार निकलती है|
  7. मांस मछली, अंडा, घी, नमक, सिरका, आचार, मिर्च मसाला और तैलीय चीज़ों से परहेज करना चाहिए|
  8. मूत्राशय की पथरी होने पर चुकुन्दर का रस, तरबूज का जूस, खीरा, खजूर का रस, खरबूजा, अंजीर, नारियल पानी, भिगोये हुए बादाम, अंगूर, आदि का सेवन करने से लाभ मिलता है|

तो भाइयों, ये था मूत्राशय की पथरी का इलाज और पथरी में होने वाली दर्द और जलन को दूर करने के कुछ उपाय के बारे में एक लेख| यदि आपको भी ये समस्या है तो डॉक्टर का इलाज लें और जरुरी सावधानियां बरतें जैसे खान पान का ध्यान और खूब सारे जल का सेवन| बाकी इस पथरी का इलाज बहुत ही सरल होता है इसलिए मानसिक तनाव लेने की कोई जरुरत नहीं|

लोगों की इतनी help की लेकिन youtube चैनल subscribe किसी ने नहीं किया अभी तक

 

loading...

LEAVE A REPLY