Alsi Ke Fayde, Gun aur Nuksan- Health benefits of Flax seeds in Hindi

14

अलसी या अलासी के बीज को इंग्लीश में flax seeds और linseeds के नाम से जाना जाता है| इन बीजों को इनमें पाए जाने वाले healthy fats के कारण बॉडी बिल्डिंग से लेकर कॅन्सर जैसी बीमारी को दूर रखने में किया जाता है| ये सीड्स आपको पूरे साल मिल सकते हैं और इसलिए दुनिया भर में flax सीड्स और इसके तेल को health benefits के लिए खूब खाया जाता है|

इन बीजो में फायदेमंद वसा के अलावा कुछ वेश्क़ीमती न्यूट्रियेंट्स भी पाए जाते हैं जिनके कारण इनका महत्व और बढ़ जाता है| अपने health benefits और मेडिसिनल गुणों के कारण इन्हे “सूपर फ़ूड” भी कहा जाता है| फ्लॅक्स सीड्स हार्ट प्रॉब्लम्स (दिल संबंधित बीमारियाँ), डायबिटीज (मधुमेह), पाचन सम्बंधित परेशानियाँ (डाइजेस्टिव प्रॉब्लम्स), कॅन्सर, वेट लॉस (मोटापा कम करने में), स्किन प्रॉब्लम्स, हाइ कोलेस्टरॉल, arthritis (गठिया), osteoporosis के अलावा शरीर की दूसरी प्रॉब्लम्स को ठीक करने की क्षमता रखते हैं|

alsi benefits

आलसी की न्यूट्रीशनल वॅल्यू देखें तो ये पोशाक तत्वो से भरपूर होते हैं| इनमें विटमिन्स जैसे  फोलेट और विटामिन B6, थायमिन के अलावा मिनरल्स जैसे फॉस्फरस, calcium , potassium, कॉपर, मॅंगनीस आदि पाए जाते हैं| ये बीज कोलेस्टरॉल और सोडियम में कम होते हैं और यही कारण है की ये दिल की बीमारियो से आपको सुरक्षित रखते हैं इस में healthy fats ओमेगा-3-फॅटी एसिड्स परचूर मात्रा में होता है| इसलिए अगर आप फिश आयल या मछली नही खाना चाहते तो आप इन्हे अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं| इनके अलावा इन सीड्स में:

  • Lignans पाए जाते हेंज़ो की नॅचुरल estrogen के समान होते हैं और अपनी एंटी ऑक्सीडेंट गुंणों के कारण जाने जाते हैं
  • आल्फा-लिनोलेनिक एसिड  पाए जाते हैं जो की एक प्रबल एंटी इनफ्लमेटरी एजेंट्स हैं| इसलिए ये जोड़ो के दर्द, गठिया में बहुत उपयोगी है|
  • fiber की अच्छी मात्रा होती है इसलिए ये पेट की प्रॉब्लम्स दूर करने में और वजन कम करने में प्रयोग  होते हैं|
  • Phytosterols पाए जाते हैं जो की मानव शरीर में कोलेस्टरॉल कम करने की पॉवर रखते हैं|
  • प्रोटीन पाया जाता है हो की मसल्स के निर्माण में, diabetes कंट्रोल करने में और फंगल इन्फेक्शन दूर  करने में लाभदायक होता है|

Alsi ke Fayde aur Gun | Health Benefits of Flaxseeds in Hindi| अलसी के स्वास्थ्य लाभ क्या हैं?

loading...

अलसी अपने , पोषक तत्वो और उसमे पाए जाने वाले विशेष केमिकल्स और कॉंपाउंड्स के कारण शरीर की कई बीमारियों को ठीक करने में मदद करता है नीचे कुछ प्रॉब्लम्स दिए गये हैं जिसमे अलसी का उपयोग फयदेमंद होता है|

Weight loss में (वजन/ मोटापा कम करने में)

अगर आप अपना वजन घटाने के लिए लो कैलोरी, हाइ fiber और healthy फ़ूड आइटम्स खोज रहे हैं तो आप बिना सोचे समझे alasi के बीज को अपने वेट लॉस डाइट प्लान में शामिल कर सकते हैं| फ्लॅक्स सीड्स का प्रोटीन कंटेंट आपकी मसल्स को बढ़ने में हेल्प करता है और आप जानते हैं की मसल्स बॉडी में fat को कम करते हैं| दूसरा, अलसी में फाइबर की भरपूर मात्रा पाई जाती है और इन्हे खाने से ये पेट में जाकर फूल जाते हैं और आपकी भूख को कम करते हैं और आप कम खाते हैं और आपका वजन काबू में रहता है|

मधुमेह को करे कम ( diabetes management)

alsi के बीज का निरंतर उपयोग आपके ब्लड-ग्लूकोस और इंसुलिन लेवल को नॉर्मल बनाए रखने में मददगार होता है| इन बीजों में पाए जाने वाले lignans टाइप-2 diabetes  को कंट्रोल करने में एक विशेष भूमिका निभाते है| एक स्टडी में ये पाया गया है की रोजाना 1 चम्मच अलसी पाउडर एक महीने तक खाने से फासटिंग ब्लड शुगर, ट्राइग्लिसराइड्स, कोलेस्टरॉल और हेमॉग्लोबिन लेवल के रिज़ल्ट्स normal हो जाते हैं| आप अपनी मेडिसिन के साथ इन बीजो का प्रयोग अपने मधुमेह को कंट्रोल करने में कर सकते हैं|

कॅन्सर से बचाव (कॅन्सर प्रोटेक्शन)

डेली थोड़े से अलसी के बीज का पाउडर या अलसी का तेल के सेवन करने से आप कॅन्सर को दूर रख सकते हैं| इन बीजो में ओमेगा-3-फॅटी एसिड्स और lignans पाए जाते हैं जो की पावरफुल  एंटी -कॅन्सरस एजेंट्स होते हैं और ये आपको prostate, स्तन के कॅन्सर, लंग कॅन्सर और कोलन (आँत का कॅन्सर) से सुरक्षा प्रदान करवाते हैं|

हार्ट को रखे healthy

आलसी में healthy fats , fiber और lignans अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं और ये सभी चीज़ें आलसी को एक असरदार heart-healthy-food बनती हैं| नीचे कुछ फायदे हैं जो की ये बीज आपके दिल को स्वस्थ  रखने के लिए करते हैं|

  1. बुरे कोलेस्टरॉल को करे कम

बुरा कोलेस्टरॉल  (LDL कोलेस्टरॉल) दिल की कई बीमारियों जैसे स्ट्रोक और हार्ट अटैक के लिए ज़िमेदार होता है| अलसी के बीज में पाया जाने वाला fiber और lignans इस बुरे कोलेस्टरॉल को कम करने में हेल्प करते हैं| ये अच्छे  पदार्थ कोलेस्टरॉल को बांध करके आपके डाइजेस्टिव सिस्टम तक ले जाते हैं  निजहाँ से ये मल के द्वारा शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है|

  1. Arthrosclerosis करे कम

Arthrosclerosis आपकी artries में एक प्रकार के बुरे पदार्थ के जमने से पैदा हुई रुकावट है और इस रुकावट के लिए inflammation को ज़िमेदार कहा जा सकता है| अलसी में पाए जाने वाले एंटी-inflamatory गुण इस इनफ्लमेशन को कम करके आपकी रक्त वाहिकाओं को साफ़ रखते हैं इससे आप Arthrosclerosis से होने वाली दिल की बीमारियों जैसे स्ट्रोक, हृदयघात के अलावा किड्नी के रोग से भी बचे रहते हैं|

  1. ब्लड प्रेशर घटाने में सहायक

इन healthy बीजों का निरंतर सेवन करने से आपका ब्लड प्रेशर भी नॉर्मल बना रहता है| एक स्टडी के अनुसार जिन लोगों ने 6 महीनों तक flaxseeds का सेवन किया उनके ऊपर और नीचे दोनों का ब्लड प्रेशर कम हुआ|

इस प्रकार अलसी आपके कोलेस्टरॉल , ब्लड प्रेशर और plaque के जमने की समस्या को ख़तम करके आपके दिल को सुरक्षित रखने में मदद करता है|

डाइजेस्टिव हेल्थ रखे फिट

पेट में गड़बड़ी, indigestion, गैस रहना, क़ब्ज़ रहना, पेट ठीक से सॉफ ना होना, acidity रहना, दस्त लगाना आदि कुछ पेट की common प्रॉब्लम्स हैं| इन सभी को नियमित रूप से alasi के बीज खा कर दूर रखा जा सकता है| अलसी में fiber, एंटी इनफ्लमेटरी गुण और दूसरे compounds लगभग हर डाइजेस्टिव प्रॉब्लम को दूर करने में मददगार होते हैं| इन बीजो में पाया जाने वाला fiber एक अच्छे  लॅक्सेटिव की तरह काम करके आपकी मल त्याग की प्रक्रिया को अच्छा और रेग्युलर बनाने में मदद करता है| साथ ही diarrhea और कॉन्स्टिपेशन (कब्ज) जैसी प्रॉब्लम्स को जड़ से ख़तम करता है| कुल मिलके अगर आपका पेट सॉफ रहेगा तो आपको गॅस, बदहजमी जैसी समसायों से मुक्ति मिलेगी और आपकी हेल्थ में भी सुधार होगा|

लेडीज के लिए फयदेमंद

अक्सर menopause के समय लेडीज को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है| इसलिए उन महिलाओं को हमारी सलाह है की वो रोजाना अलसी का सेवन करें और प्री-मीनोपॉज के लक्षणों जैसे hot flushes को दूर रखे| इसके तेल का सेवन पीरियड संबंधी काई प्रॉब्लम्स को दूर कर पीरियड को रेग्युलर बनाए रखने में सहायक होता है| साथ ही आप ऊपर पढ़ चुके हैं की linseeds का प्रयोग करके आप स्तन के कॅन्सर को भी दूर रख सकती हैं| इयके अलावा अलसी लेडीज में हॉर्मोनल इमबॅलेन्स को ठीक रख कर उन्हे कई health प्रॉब्लम्स से बचने में भी मदद करती है|

जेंट्स के लिए भी कुछ कम नही

आदमियों में प्रॉस्टेट की प्राब्लम एक बहुत ही आम बात है जो की अक्सर बुढ़ापे में देखने को मिलती है| अलसी प्रॉस्टेट संबंधी प्रॉब्लम्स जैसे सूजन, इनफ्लमेशन और कॅन्सर को कम करने में मदद करता है| इसका नियमित सेवन जेंट्स में नपुंसकता, नील शुक्राणु होना या कम होना, लिंग में ब्लड फ्लो सही ना होने के कारण ED (मर्दानाकमजोरी) की प्राब्लम को भी ख़तम करने में काफ़ी मददगार साबित होता है|

दर्द, सूजन और इनफ्लमेशन में दे आराम ( Lin seeds for Pain, Swelling and Inflammation Relief)

अलसी के तेल और बीज का सेवन कई प्रकार के दर्द और सूजन को कम करने में भी सहायता करता है| इसका कारण है की इन बीजों में ओमेगा-3-फॅटी एसिड्स पाए जाते हैं जो की बॉडी में prostaglandins  के निर्माण के लिए बहुत ज़रूरी होते हैं| ये prostaglandins  बहुत शक्तिशाली एंटी-इनफ्लमेटरी हॉर्मोन्स हैं जो की अस्थमा, migraine के सर दर्द, गठिया (arthritis), gout, जोड़ो के दर्द और सूजन को कम करने में भी बहुत उपयोगी होते हैं|

हड्डियों का स्वास्थ्य

अलसी  में पाए जाने वाला Alpha linolenic acid, osteoporosis नामक हड्डियों की बीमारी को भी दूर  रखने में मदद करते है| इससे बुढ़ापे में बोने लॉस की समस्या में कमी आती है और आपकी बोन्स लंबी उम्र तक मजबूत बनी रहती हैं| साथ ही ये आपकी बोन्स की health को भी सुधरता है|

ADHD से बचाव

flax सीड्स ADHD यानी attention deficits Hyperactive disorder के लक्षणों को कम करके उसके इलाज और बचाव में भी लाभदायक होते है|

Alsi Ke Beauty Benefits| Skin and Hair Benefits of Flax seeds

वैसे तो आप अब तक जान ही गये होंगे की किस तरह अलसी आपको कई प्रकार की प्रॉब्लम्स से सुरक्षित रखती है| इतना ही नही flaxseeds से आप आपनी स्किन और बालों की health  में भी काफ़ी सुधार कर सकते हैं| निरंतर ओमेगा-3-फॅटी एसिड्स की dose आपकी स्किन को glowing और बालो को शाइनी रखने में मदद करती है और आपके चेहरे की सुंदरता बढाती है| नीचे कुछ स्किन और हेयर को होने वाले फ़ायदे दिए गये हैं जो आपको ये बतायेंग की कितने ब्यूटी फ्रेंड्ली हैं ये छोटे से बीज और इनका तेल|

  • इसके तेल के प्रयोग से आप ड्राइ स्किन, सनबर्न, sun सेन्सिटिविटी को ख़तम करके अपनी त्वचा को moist और सॉफ्ट रख सकते हैं|
  • ये स्किन टोन को सुधरती है और स्किन rejuvenate और regenerate करने में मदद करती है
  • इसके पाउडर को रोजाना लेने से या फ्लॅक्स सीड आयल कॅप्सुल्स लेने से आप अपनी त्वचा को ग्लोयिंग यानी चमकदार बना सकते हैं| दोस्तो ऐसा होता भी है! इसके साथ साथ विटामिन ए आयल युक्त कॅप्सुल लेने से जल्दी ग्लोयिंग स्किन मिलती है.  आज़मा के देख लीजिए!
  • आलसी के एंटी इनफ्लमेटरी और हीलिंग गुण dermatitis, eczema, खुजली, इरिटेशन आदि को ख़तम कर आपको रहत की सांस लेने में हेल्प करते हैं|
  • ओमेगा -3-फॅटी एसिड आपके पसीने को पतला कर आपके स्किन के pores को साफ़ रखता है फलसवरूप आपको ब्लॅकहेड्स, व्हितेहेअड्स, pimples और acne जैसी प्रॉब्लम्स नही हो पाती|
  • ये स्किन एलर्जी और स्किन कॅन्सर से भी आपकी हेल्प करती है|
  • तेल का उपयोग त्वचा पर करने से या पाउडर का रोजाना सेवन करने से आप अपनी स्किन को अच्छा पोषण प्रदान कर सकते हैं|
  • ये रूखी, सुखी और बेजान त्वचा को सॉफ्ट, supple और glowing बनाने में भी कारगर है|
  • ये स्किन की इलास्टिसिटी को भी सुधरता है|
  • इसी प्रकार अलसी के पाउडर और तेल का इस्तेमाल आपको ड्राइ हेयर , ब्रिट्ल हेयर, ड्राइ स्कॅल्प (खोपड़ी की खुश्की), सर में खुजली, scalp psoriasis, दो मुहे बाल, कमजोर बाल आदि बालो की समस्यों को ख़तम करता है|
  • ये बालो को पोषण प्रदान कर उन्हे शाइनी, मजबूत और healthy बनाने में मदद करता है|
  • ये हॉर्मोनल इमबॅलेन्स और दूसरे कारण से बाल झड़ने की समस्या को भी ख़तम करता है|
  • flax seed आयल की डेली मसाज से dandruff (रूसी) की प्राब्लम भी दूर होती है|
  • ये बाल घने, मुलायम, और रेशमी बनाने में भी आपकी हेल्प करता है|

आप ये सभी फायदे आल्सो  के बीज का पाउडर और उसके तेल का सेवन करके पा सकते हैं| इसके अलावा तेल को स्किन और scalp पर लगने से भी आपकी सुंदरता बदती है| साथ ही आप तेल और पाउडर में दूसरे कुछ प्राकर्तिक चीज़ें जैसे नींबू, गुलाब जल, स्ट्रॉबेरीज, हल्दी,  नीम की पेस्ट, अंडा, दही आदि मिलकर आपने फेस और बालों के लिए कुछ कमाल के फेशियल मास्क, हेर मास्क, और सक्रब्स भी बना सकते हैं| इन रेसिपीस का निर्माण आपको आपकी ज़रूरत  के हिसाब से करना होगा| आप हमसे भी पूच सकते हैं|

Alsi ke Nuksan| Alsi ka Paryog kab nahi karna chahiye| side effects of flax seeds in Hindi

देखिए हर चीज़ के यदि गुण होते हैं तो कुछ नुकसान भी होते हैं| हालाँकि आल्सो के तेल या पाउडर के कम सेवन से कोई भी हेल्थ प्राब्लम या नुकसान नही होता| नीचे फ्लॅक्स सीड्स खाने के कुछ नुकसान/साइड इफेक्ट्स दिए गये हैं जो की जयादा सेवन से होते हैं| साथ ही आपको ये भी बताया गया है की कब आपको इसका सेवन नही करना चाहिए और कब सावधानी बरतनी चाहिए|

ज़रूरत से ज़यादा आलसी के सेवन से आपको पेट संबंधी प्रॉब्लम्स जैसे पेट में दर्द, गैस, ब्लॉकेज, जी मचलना, उल्टी, दस्त, और IBS जैसी दिक्कतोंका सामना करना पड़ सकता है|

आंत्र शोध, प्रेग्नेन्सी, स्तनपान करवाते समय, एलर्जी में, खून संबंधी प्रॉब्लम्स में, बाइपोलार डिसॉर्डर आदि जैसी प्रॉब्लम्स में अलसी का पर्योग वर्जित है|

फ्लॅक्स सीड्स बॉडी में आइरन के अवशोषण को कम करते हैं| इसलिए यदि आपके शरीर में आइरन की कमी हो तो आप इनका प्रयोग ना कीजिए|

ब्लड थिनिंग दवाइयाँ लेते वक़्त भी आपको फ्लॅक्स सीड्स नही ग्रहण करना चाहिए|

आपको अलसी का तेल और पाउडर नही लेना चाहिए जब:

आप NSAIDS pain killers या कोई एंटी इनफ्लमेटरी मेडिसिन ले रहे हो

आप diabetes कंट्रोल और ब्लड प्रेशर की दवाई ले रहे हो

आप कोलेस्टरॉल की दवाई या कोई हॉर्मोनल ट्रीटमेंट ले रहे हो

आप थाइरोइड का ट्रीटमेंट ले रहे हो|

Alsi ko Kaise khaye| Alsi Sevan ke tarike| kaise kare flax seeds ko apni diet mein shamil

अगर आप बीज का प्रयोग कर रहे हैं तो ये बात ध्यान में रखिए की सीधा बीज ना खाइए| क्योंकि वो आपके पेट में पच नही पाएँगे और मल द्वारा बिना पचे हुए ही बाहर निकल जाएँगे| इसलिए हमेशा उनको पीस कर उनका पाउडर बनाकर ही प्रयोग में लायें| आंत शोध, क़ब्ज़ और दूसरी गड़बड़ियों से बचने के लिए हमेशा पाउडर का सेवन करते समय खूब सारा पानी पीजिए| सुबह दो चम्मच ढेर सारे पानी के साथ लीजिए| आप इसके आयिल को कॅप्सुल के रूप में लें तो ज़यादा बेहतर होगा| आप पाउडर को दही के साथ खाइए, अपने जूस या smoothie के साथ मिलकर लीजिए| इसी प्रकार केक, ब्रेड या कूकीज बनाते समय आप उनमें अलसी पाउडर को मिलकर उनके health properties को बढ़ा सकते हैं| इसी प्रकार in बीजों को रोटी के आटे में भी मिलकर खाया जा सकता है|

तो दोस्तो, अब आपने अलसी खाने के फायदे और नुकसान जान लिए हैं| बस आपको ये करना है की अपने डायटीशियन या डॉक्टर की सलाह लेनी है ताकि आपको ऊपर दिए हुए sideeffects ना हो पाएं| डॉक्टर यदि आपको सलाह देता है तो आज से ही आप इस नॅचुरल सूपर फुड का सेवन अपनी health  को सुधारने के लिए कर सकते हो| साथ ही ये भी ध्यान रखिएगा की आपको इसका सेवन कोई भी दवाई या सप्प्लिमेंट लेने के 2 घंटे पहले या बाद में करना चाहिए| कोई भी प्रशन हो तो कॉंटॅक्ट फॉर्म या हमें ईमेल करके पूछिए|

suvens

hindilookup.in team

लोगों की इतनी help की लेकिन youtube चैनल subscribe किसी ने नहीं किया अभी तक

 

loading...

14 COMMENTS

    • Hello aryan,

      i am admin of hindilookup , aap apni problem contact form mein likh kar bataiye ….shayad aapko yaha batane meiin koi problem hogi….contact form mein aap apni problem hamese share kijiye ham aapko poori tarah se help karenge ……..rahi baat alsi ki to alsi sabse safe food or ek accha omega 3 fatty acids ka strot hai jo ki aapke shareer health aur organs keliye bahut jaruri hota hai ……aapko aur adhik fayda pana hai to aap ghar mein alsi aur kaddu ke beej ke ladoo bana sakte hain aur unhein rojana khaiye aapki health mein kafi sudhar hoga aap ek dum fit rahenge aapki sikin vibrant banegi …aap chahein to hum aapko recipe bhi bata sakte hain …..lekin accha hoga ki aap hamein apni problem bata dein taki hum aapko ye bata sakein ki aap alsi le sakte hain ya nahi …..:)
      Thanks for your visit!
      regards

    • hello bittu giri ji , aap alsi ka sevan acchi sehat ke liye kar sakte hain yah aapke dil, baal twacha aadi ki sehat mein sudhaar karta hai …alsi ke saath aap soybean, daal, anda aadi ka prayog karke apne muscle mass ko jaldi se badha sakte hain. exercise ke aadhe se ek ghante ke beech mein protein yukt bhojan khane se muscles teji se badhti hain.

      thanks for visit!

  1. Comment:sir mere weight kam nhi hota tango par charbi bhut Zyada ha me running be krta Hu Jim be jata Hu fir be koi fayda nhi hua sir plezz kuch batao ki me kya kru

    aur sir mein ibs ki medicine be leta Hu kya me alsi use kar sakta Hu

    • aapko regular exercise cycling, jogging aadi ka sahara lena hoga…saath hi apni diet par bhi control karna hoga…alsi ibs mein aap kha sakte hain

  2. mujhe feburuary 26 mein brain stroke hua tha left side peralyse ki proble hai main alsi le sakta hoon kya

    • saina ji flax seeds limit mein lena chahiye …ye seeds milk production improve karte hain …diabetes ho to inse parhej karna chahiye….aap shuru mein kam se kam quantity mein lein

LEAVE A REPLY